Jadeja said I was mentally ready to bat at number four against Pakistan
Twitter/ravinder Jadeja

दुबई। टीम प्रबंधन का रविंद्र जडेजा को बल्लेबाजी क्रम में चौथे नंबर पर भेजना ‘मास्टरस्ट्रोक’ साबित हुआ और पाकिस्तान पर रोमांचक करीबी मुकाबले में जीत के दौरान 29 गेंद में 35 रन बनाने वाले इस आलराउंडर ने मंगलवार को कहा कि वह इस चुनौती के लिए ‘मानसिक रूप से तैयार’ थे।

पाकिस्तान के खिलाफ सलामी बल्लेबाजों लोकेश राहुल और कप्तान रोहित शर्मा के क्रमश: शून्य और 12 रन पर आउट होने के बाद जडेजा बल्लेबाजी के लिए उतरे। उन्होंने हार्दिक पंड्या (नाबाद 33) के साथ पांचवें विकेट के लिए 52 रन की साझेदारी करके भारत को लक्ष्य तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई।

जडेजा ने रविवार को चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान पर भारत की पांच विकेट की जीत के बारे में कहा, ‘‘बेशक (मुझे पता था कि ऐसा हो सकता है) … उनकी अंतिम एकादश को देखने के बाद मुझे पता था कि ऐसी स्थिति आ सकती है। मैं मानसिक रूप से तैयार था। सौभाग्य से मैंने टीम के लिए महत्वपूर्ण रन बनाए।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं शीर्ष सात में बाएं हाथ का अकेला बल्लेबाज था। कभी-कभी जब बाएं हाथ के स्पिनर और लेग स्पिनर गेंदबाजी कर रहे होते हैं तो बाएं हाथ के बल्लेबाज के लिए जोखिम लेना आसान होता है।’’

इस आलराउंडर ने कहा, ‘‘मैं जब भी क्रीज पर उतरता हूं तो बस स्थिति के अनुसार खेलता हूं। टी20 में आपके पास सोचने के लिए ज्यादा समय नहीं होता है। आपको बस मैदान पर उतरकर खुद को जाहिर करना होता है। मुझे बस बल्लेबाजी करते हुए रन बनाने होते हैं और जरूरत पड़ने पर विकेट दिलाने होते हैं।’’

यह पूछे जाने पर कि क्या यह (नंबर चार पर बल्लेबाजी) भविष्य की योजना है, जडेजा ने कहा, ‘‘यह स्थिति और प्रतिद्वंद्वी गेंदबाजों पर निर्भर करता है।’’ जडेजा को शादाब खान और मोहम्मद नवाज की स्पिन जोड़ी से निपटने के लिए बल्लेबाजी क्रम में ऊपर भेजा गया। दोनों ने दाएं हाथ के बल्लेबाजों को परेशान किया था। जडेजा ने भारत को परेशानी से बाहर निकाला जिसने तीन रन के भीतर रोहित और विराट कोहली (35) के विकेट गंवा दिए थे। इससे टीम का स्कोर 10 ओवर के अंदर तीन विकेट पर 53 रन हो गया था।

जडेजा ने बीच के ओवरों में सूर्यकुमार यादव (18) के साथ 36 रन की साझेदारी के साथ भारत की पारी को संवारा और फिर हार्दिक के साथ 52 रन जोड़कर टीम को जीत की दहलीज तक पहुंचाया।

यह पूछे जाने पर कि बल्लेबाजी करते समय उन्होंने और हार्दिक ने क्या बात की तो उन्होंने कहा, ‘‘भारत-पाकिस्तान मैच हमेशा काफी दबाव वाला होता है। आपसे काफी उम्मीदें होती हैं। मुझे नहीं लगता कि चर्चा करने के लिए बहुत कुछ था, ऐसी चीजें टी20 प्रारूप में होती हैं। सभी ने बल्लेबाजी, गेंदबाजी और कैच में योगदान दिया।’’

गेंदबाजी करते हुए जडेजा (दो ओवर में 11 रन देकर कोई विकेट नहीं) और युजवेंद्र चहल (चार ओवर में 32 रन देकर कोई विकेट नहीं) दोनों स्पिनरों को सफलता नहीं मिली लेकिन इस आलराउंडर ने कहा कि वे रन गति पर अंकुश लगाने में सफल रहे।

उन्होंने कहा, ‘‘स्पिनरों ने भी अच्छा किया, कभी-कभी आप अच्छा करते हैं लेकिन विकेट नहीं ले पाते। टी20 प्रारूप ऐसा ही है। एक गेंदबाजी इकाई के तौर पर हमने अच्छा प्रदर्शन किया।’’ जडेजा ने कहा, ‘‘यह एक सामूहिक प्रयास था। स्पिनरों को कोई विकेट नहीं मिला लेकिन उन्होंने रन प्रवाह को रोक दिया।’’

क्वालीफायर हांगकांग के खिलाफ बुधवार को होने वाले ग्रुप मैच के बारे में पूछे जाने पर जडेजा ने कहा,‘‘हम सकारात्मक सोच के साथ हांगकांग के खिलाफ खेलने जा रहे हैं और हम उन्हें हल्के में नहीं लेंगे।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैच के दिन T20 में कुछ भी हो सकता है। हम अपना सर्वश्रेष्ठ देंगे और सकारात्मक होकर खेलेंगे।’’