जसप्रीत बुमराह © Getty Images (File photo)
जसप्रीत बुमराह © Getty Images (File photo)

टीम इंडिया ने नए यॉर्कर किंग जसप्रीत बुमराह ने आईपीएल से राष्ट्रीय टीम तक का सफर शानदार तरीके से तय किया है। 23 साल के बुमराह ने भारत के श्रीलंका दौरे पर खेली गई वनडे और टी20 सीरीज में 16 विकेट लेकर इतिहास रच दिया है। सीमित ओवर के फॉर्मेट में जगह पक्की कर चुके बुमराह के कोच का मानना है कि यह तेज गेंदबाज टेस्ट टीम में जगह बनाने की काबिलियत भी रखता है। बुमराह के बचपन के कोच किशोर त्रिवेदी ने कहा, “चयनकर्ता उसके प्रदर्शन पर ध्यान जरूर दे रहे हैं, उसे टेस्ट टीम में एक मौका दिया जाना चाहिए लेकिन उसके लिए उसे अपनी गेंदबाजी को बेहतर बनाना होगा। उसके पास कई सारे वैरियेशन्स हैं जैसे कि इन-स्विंग, आउट-स्विंग, यॉर्कर और धीमी गेंद। उसे टेस्ट मे लंबे स्पेल डालने के लिए खुद को तैयार करना होगा। उसमें ऐसा करने की पूरी संभावना है।”

किशोर त्रिवेदी ने बुमराह के अजीब गेंदबाजी एक्शन को लेकर भी बात की। उनका मानना है कि बुमराह का गेंदबाजी एक्शन ही उसकी सबसे बड़ी ताकत है। त्रिवेदी ने कहा, “हां, कई लोगों ने उसे अपना एक्शन बदलने के लिए कहा है लेकिन मैने उसे ऐसा करने से रोका। इस तरह का अजीब एक्शन ही उसका सबसे बड़ा हथियार है। इससे बल्लेबाज को समझ नहीं आता कि गेंद अंदर आएगी या बाहर घूमेगी।” त्रिवेदी ने आगे कहा, “वह मन से काफी मजबूत है, खराब प्रदर्शन के बाद वह हार नहीं मानता, बल्कि और बेहतर करने के लिए तैयार हो जाता है। कोई भी उसे अच्छा प्रदर्शन करने से नहीं रोक सकता।” [ये भी पढ़ें: ये है वो तारीख जब स्टीवन स्मिथ और केन विलियमसन से ‘टक्कर’ लेंगे विराट कोहली!]

त्रिवेदी ने बताया कि उन्होंने बुमराह को आठवीं क्लास से दसवीं क्लास तक कोच किया है। उन्होंने बताया कि शुरुआत में बुमराह की गेंदबाजी काफी साधाराण थी लेकिन लगातार अभ्यास से वह बेहतर बना। अब बुमराा अपने उसी कड़े अभ्यास और मेहनत के बल पर भारतीय टीम को जीत पर जीत दिला रहे हैं।