Joe Root: Standard of cricket must not be compromised when it resume
Joe Root @ Twitter

इंग्लैंड की टेस्ट टीम के कप्तान जो रूट (Joe Root) ने कहा है कि कोरोनावायरस के बाद जब क्रिकेट वापस लौटे तो इसके स्तर से समझौता नहीं होना चाहिए। रूट ने उदाहरण देते हुए कहा कि टेस्ट क्रिकेट अगर अपने सर्वश्रेष्ठ तरीके से नहीं खेला जा सकता तो यह खेल की ईमानदारी के साथ न्याय नहीं होगा।

रूट (Joe Root) ने स्काइ स्पोटर्स से बात करते हुए कहा, “अगर खेल से समझौता होता है तो यह ज्यादा आगे नहीं जाएगा। खेल जिस ऊर्जा से खेला जाता है, अगर आप टेस्ट क्रिकेट को इसके सर्वश्रेष्ठ तरीके से नहीं खेलते हैं तो हमें नहीं खेलना चाहिए। यह खेल का सही प्रतिबिंब नहीं होगा।”

पढ़ें:- ब्रायन लारा ने शेयर की रैना के साथ 17 साल पुरानी फोटो, ड्रेसिंग सेंस को लेकर खींची टांग

रूट (Joe Root) ने हालांकि माना कि कोविड-19 के कारण खेल में सावधानी बरतने के लिए कुछ बदलाव हो सकते हैं। आईसीसी इस समय गेंद को चमकाने के लिए सलाइवा (लार) का उपयोग बंद करने पर विचार कर रहा है।

निकट भविष्य में खेल में कुछ बदलाव होने की संभावना के बावजूद इंग्लैंड के कप्तान ने कहा कि खेल की ईमानदारी से छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए।

पढ़ें:- ‘खाली स्टेडियम में मैच खेल तो लेंगे लेकिन पता नहीं पुराना जादू रह पाएगा या नहीं’

रूट (Joe Root) ने कहा, “गेंद को बदलने और कई चीजों को बदलने को लेकर बात हो रही है और यह देखना दिलचस्प होगा कि कुछ चीजों को सुरक्षित बनाने के लिए क्या बदलाव किए जाते हैं। उम्मीद है कि गेंद में सीम न हो और यह मूव न करे और हमें इसे आसानी से हर हिस्से में मार सकें।”

रूट (Joe Root) ने कहा, “इन मैचों को खेलने में क्रिकेट के स्तर के साथ समझौता नहीं होना चाहिए।”