कोरोना महामारी (Coronavirus) के बीच इन दिनों यूएई में आईपीएल ( IPL 2020) का  आयोजन होने जा रहा है। इस वायरस के कारण दुनिया भर में बढ़ते संक्रमण और मौत के आंकड़ो को देखते हुए बायो-बबल (Bio-Bubble) में क्रिकेट खेलना अब एक नया नॉर्मल हो गया है। इस वातावरण में 87 दिन बिताने वाले इंग्‍लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर (Jofra Archer) ने अपनी आपबीती बताई।

बायो-बबल वो वातावरण होता है, जिसके अंदर एक खिलाड़ी को संक्रमण से मुक्‍त माहौल में रहना होता है। उसे होटल रूम से बाहर जाने की इजाजत नहीं होती। वो केवल प्रैक्टिस सेशन के लिए दिए गए वाहन में जा सकता है।

जोफ्रा आर्चर (Jofra Archer) ने कहा है कि बायो सिक्योर बबल में रहना कई बार मानसिक तौर पर मुश्किल रहता है। परिवार के साथ लंबे समय तक दूर रहना अच्छा नहीं है।

आर्चर ने 87 दिन बबल में बिताए हैं। वेस्टइंडीज सीरीज के दौरान सिर्फ चार दिन ही वह बाहर रहे थे। वह सबसे ज्यादा दिन बबल में रहने वाले खिलाड़ी हैं।

आर्चर ने स्काई स्पोर्टस से कहा, “कई बार यह मानसिक रूप से काफी चुनौतीपूर्ण होता है। घर जाना और सामान्य होना अजीब सा लगता है कि क्योंकि यह नया है। मैं आश्वस्त नहीं हूं, मेरे अंदर अभी काफी बबल है, बाकी बचे साल के लिए। मैंने फरवरी से अपने परिवार को नहीं देखा और अब हम सितंबर में हैं।”

उन्होंने कहा, “अक्टूबर और नवंबर में आईपीएल होगा। इसके बाद हम दक्षिण अफ्रीका जाएंगे।”