Just like MS Dhoni’s initial years, Rishabh Pant is a work in progress: Deep Dasgupta
MS Dhoni, Rishabh Pant (IANS)

भारतीय विकेटकीपर बल्लेबाज रिषभ पंत ने ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज में शानदार प्रदर्शन किया था। साथ ही न्यूजीलैंड दौरे पर खेली टी20 सीरीज में बतौर स्पेशलिस्ट बल्लेबाज भी उनका प्रदर्शन ठीक रहा था। हालांकि न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे टीम में उन्हें जगह नहीं मिली थी, जिसका एक मतलब ये हो सकता है कि पंत को विश्व कप 2019 में विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर नहीं देखा जा रहा है।

टीम मैनेजमेंट अगर इस तरह का विचार कर रहा है तो उसका एक कारण पंत की विकेटकीपिंग भी है। रिषभ पंत मध्यक्रम के विस्फोटक बल्लेबाज जरूर हैं लेकिन उनकी विकेटकीपिंग में अब भी कमियां नजर आती हैं। हालांकि पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज दीप दासगुप्ता ने पंत का बचाव किया और कहा कि महेंद्र सिंह धोनी भी अपने शुरुआती करियर में इसी दौर से गुजरे थे।

ये भी पढ़ें: आज होगा ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वनडे-टी20 सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान

इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा, “धोनी के शुरुआती करियर की तरह ही पंत भी अभी प्रगति पर है। हमें ये नहीं भूलना चाहिए कि वो 21-22 साल का है और उसके सर्वश्रेष्ठ समय आना अभी बाकी है। ना केवल विकेटकीपर बल्कि बल्लेबाज के तौर पर भी। उसे ये देखने की जरूरत है कि उसके लिए कौन सा तरीका सही काम करता है। जब आप एमएस की तरफ देखते हैं तो वो काफी अपरंपरागत दिखता है लेकिन वो शानदार है। पंत को खुद ये पता लगाने की जरूरत है कि एक विकेटकीपर और बल्लेबाज के तौर पर उन्हें क्या सुधार करना है।”

दीप दासगुप्ता ने आगे कहा, “कोई भी परफेक्ट नहीं होता है लेकिन उसे ये ढूंढने की जरूरत है कि कौन सा तरीका उसके लिए सबसे सही काम करेगा। जैसा कि मैने कहा उसे बैंगलौर (नेशनल क्रिकेट अकादमी) में काम करते देखना अच्छा रहा। वो कड़ी मेहनत कर रहा है और मुझे यकीन है कि वो अपना तरीका ढूंढ लेगा।”

ये भी पढ़ें: फिर से खेल पाना खुशकिस्मती की बात है: डेल स्टेन

वनडे में विकेटकीपर बल्लेबाज की जगह स्पेशलिस्ट बल्लेबाज की भूमिका को लेकर पंत पर कितना दबाव है, इस बारे में बात करते हुए दासगुप्ता ने कहा, “मुझे नहीं लगता कि वो किसी तरह के दबाव में है सिर्फ इसलिए कि उसे सीमित ओवर फॉर्मेट में कीपिंग करने के लिए नहीं मिल रही है। आखिर में आप इसके लिए ही खेलते हो। आप अपने देश के लिए खेलते हो और अगर कोई स्पॉट खाली है तो आप उसका हासिल करने की कोशिश करते हैं।”