© IANS
© IANS

कर्नाटक का रणजी ट्रॉफी 2017-18 में जलवा बरकरार है। नागपुर के विदर्भ क्रिकेट असोसिएशन में खेले गए क्वार्टरफाइनल मैच में कर्नाटक ने रणजी क्रिकेट इतिहास की सबसे मजबूत टीम मुंबई को पारी और 20 रनों से हराते हुए सेमीफाइनल का टिकट पक्का कर लिया। कर्नाटक की जीत में सबसे अहम भूमिका उनके कप्तान विनय कुमार ने निभाई। उन्होंने 79 रन देकर 8 विकेट झटके और मैन ऑफ द मैच भी चुने हए। इस हार के साथ ही मुंबई टीम का सफर यहीं थम गया। कर्नाटक मौजूदा सीजन में सेमीफाइनल के लिए क्वलीफाई करने वाली पहली टीम है।

कर्नाटक की जीत की नींव उनके कप्तान विनय कुमार ने रखी। उन्होंने हैट्रिक लेते हुए पहली पारी में 6 विकेट निकाले और मुंबई को 173 रनों पर ऑलआउट कर दिया। इसके बाद उनके बल्लेबाजों ने गजब का प्रदर्शन किया जिसकी मदद से कर्नाटक ने 597 रन बना डाले। इस तरह से कर्नाटक ने पहली पारी के आधार पर मुंबई पर 397 रनों की लीड हासिल कर ली। कर्नाटक की ओर से श्रेयस गोपाल ने सबसे ज्यादा 150 रन बनाए। उनके अलावा मीर कुनैन अब्बास ने 50, मयंक अग्रवाल ने 78 और श्रीनाथ अरविंद ने 51 रन बनाए। वहीं मुंबई की ओर से शिवम दुबे ने 98 रन देकर 5 विकेट झटके।

इस तरह से कर्नाटक की स्थिति मैच में बहुत मजबूत हो गई थी। ऐसे में मुंबई के बल्लेबाजों के लिए चौथी पारी में बल्लेबाजी करना हिमालय की चोटी पर चढ़ने जैसा था। हालांकि, दूसरी पारी में मुंबई टीम ने संघर्ष किया और सूर्यकुमार यादव के 108, आकाश पारकर के 65 और शिवम दुबे के 71 रनों की बदौलत टीम को 300 के पार तो ले गए लेकिन कृष्णप्पा गॉथम के आगे वे अपनी पारी को और ज्यादा आगे नहीं खींच पाए और पूरी टीम 377 रनों पर ऑलआउट हो गई। गॉथम ने 10 रन देकर 6 विकेट झटके और अपनी टीम को जीत दिलवा दी।