Khaleel Ahmed: If I make it to 2019 World Cup then the wickets will reduce pressure
Khaleel Ahmed (Getty Image)

भारतीय चयनसमिति के प्रमुख एमएसके प्रसाद ने हाल ही में बयान दिया था कि टीम इंडिया में बाएं हाथ के एक तेज गेंदबाज की जगह खाली है। खलील को भारतीय स्क्वाड में शामिल करने से पहले प्रसाद ने कहा था कि अहमद बाएं हाथ के तेज गेंदबाज का विकल्प हो सकते हैं और अब खलील अहमद भी विश्व कप की चुनौती की तैयारी में लग गए हैं।

रोहित शर्मा की कप्तानी में एशिया कप में डेब्यू करने वाले खलील विश्व कप से पहले ज्यादा से ज्यादा विकेट बटोरना चाहते हैं ताकि इस बड़े टूर्नामेंट में मौका मिलने पर उनके ऊपर ज्यादा दबाव ना रहे। खलील ने आज मीडिया के सामने कहा, ‘‘विश्व कप के मद्देनजर ये मेरे लिए अच्छी तैयारी होगी। मैं विश्व कप से पहले ज्यादा से ज्यादा विकेट अपने नाम करना चाहता हूं। अगर मुझे विश्व कप के लिये चुना जाता है तो इससे मेरे आत्मविश्वास में भी बढ़ोतरी होगी और मुझ पर कम दबाव होगा।”

राजस्थान के इस 20 वर्षीय गेंदबाज को लगता है कि दिल्ली डेयरडेविल्स में मेंटर जहीर खान से उन्हें बेहतरीन गेंदबाजी करने में काफी मदद मिली। वेस्टइंडीज के खिलाफ भारत के पहले वनडे से पहले खलील ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि मैं उनकी (जहीर की) सलाह से बेहतरीन गेंदबाज बन गया हूं। मैंने दिल्ली डेयरडेविल्स के साथ दो साल के कार्यकाल के दौरान जहीर भाई के साथ काफी समय बिताया। हम आईपीएल के दौरान अलग अलग परिस्थितियों में खेले थे और वो हमेशा इस बारे में बात करते थे कि अलग अलग तरह की पिच पर किस तरह से गेंदबाजी करनी चाहिए।’’ गौरतलब है कि खलील का तुलना जहीर खान से की जा रही है।

असम क्रिकेट संघ के बारसपारा स्टेडियम में अभ्यास सेशन के बाद खलील ने बताया कि डेब्यू मैच से पहले वो कितना घबराए हुए थे। उन्होंने कहा, “मैं अपने पहले मैच में काफी घबराया हुआ था क्योंकि मेरा पहला टूर्नामेंट एशिया कप जैसा बड़ा टूर्नामेंट था। मुझ पर दबाव था, लेकिन पहले मैच में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद मुझे लगा कि मैं आगे भी अच्छा कर सकता हूं।”

खलील ने अपनी टीम के सीनियर खिलाड़ियों की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने कभी भी उन्हें नया खिलाड़ी जैसा महसूस नहीं होने दिया। राजस्थान के टोंक के रहने वाले खलील ने कहा, “मुझे कभी भी महसूस नहीं हुआ कि मैं टीम में नया हूं। सीनियर खिलाड़ियों ने मेरा समर्थन किया। हर कोई मुझसे बातें कर रहा था और मेरा आत्मविश्वास बढ़ा रहा था।”