विराट कोहली के कोच राजकुमार शर्मा © Twitter
विराट कोहली के कोच राजकुमार शर्मा © Twitter

दिल्ली रणजी टीम के नए कोच का ऐलान हो गया है। डीडीसीए की क्रिकेट मामलों की कमेटी ने बड़ा फैसला लेते हुए के पी भास्कर को ही दिल्ली का हेड कोच बनाया है। ये फैसला इसलिए चौंकाने वाला है क्योंकि के पी भास्कर की कोचिंग में पिछले साल घरेलू टूर्नामेंट में दिल्ली का प्रदर्शन काफी खराब रहा था और पूर्व कप्तान गौतम गंभीर ने उन पर पक्षपात जैसे आरोप भी लगाए थे। इसके अलावा डीडीसीए ने दिल्ली के गेंदबाजी कोच की जिम्मेदारी टीम इंडिया के पूर्व ऑलराउंडर मनोज प्रभाकर को दी है। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के कोच राजकुमार शर्मा को भी दिल्ली की अंडर 23 टीम का कोच बनाया गया है।

के पी भासकर और गंभीर की हुई थी झड़प

डीडीसीए की पांच दिन की बैठक के बाद के पी भास्कर को कोच बनाये रखने का फैसला किया है जबकि सीनियर टीम ने रणजी ट्रॉफी और विजय हजारे ट्रॉफी में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया था। दिल्ली दोनों टूर्नामेंटों में नॉकआउट राउंड तक नहीं पहुंच सकी थी। भास्कर ओपनिंग बल्लेबाज गौतम गंभीर के साथ तीखी बहस के कारण चर्चा में रहे थे । गंभीर ने आरोप लगाया था कि भास्कर युवाओं के करियर के साथ खिलवाड़ करके ड्रेसिंग रूम में मतभेद पैदा कर रहे हैं। गंभीर को बाद में चेतावनी देकर छोड़ दिया गया था। पाकिस्तान के दो बल्लेबाजों पर लग सकता है 5 साल का बैन और भारी जुर्माना  

के पी भास्कर को दोबारा दिल्ली का कोच बनाने पर डीडीसीए की क्रिकेट मामलों की कमेटी के अध्यक्ष मदनलाल ने कहा, ‘हमने भास्कर को दूसरा मौका दिया है। किसी कोच की प्रतिभा का अंदाजा आप एक साल में नहीं लगा सकते। कमेटी को भरोसा है कि भास्कर इस साल अच्छा प्रदर्शन करेंगे।’ मदनलाल ने भास्कर और गौतम गंभीर के संबंधों पर भी बयान दिया, उन्होंने कहा, ‘ये चीजें होती रहती हैं, लेकिन हमें आगे बढ़ना चाहिए। उम्मीद करते हैं कि अब ऐसा नहीं होगा।’ दिल्ली के नए गेंदबाजी कोच मनोज प्रभाकर ने अपनी जिम्मेदारी पर खुशी जताई। उन्होंने कहा कि वो दिल्ली के क्रिकेट खिलाड़ियों की ज्यादा से ज्यादा मदद करना चाहते हैं। (पीटीआई के इनपुट के साथ)