Krunal Pandya responds to difference in captaincy style of virat kohli and rohit sharma
Virat Kohli with Rohit Sharma (File Photo) @ AFP

मुंबई इंडियंस से क्रुणाल को रोहित शर्मा की कप्तानी में खेलना होता है और राष्ट्रीय टीम में विराट कोहली की। क्रुणाल को दोनों की कप्‍तानी में खास अंतर नजर नहीं आता है।

क्रुणाल ने कहा, “दोनों ही बेहद कामयाब कप्‍तान हैं और अपनी टीम के साथ हमेशा खड़े रहते हैं। चाहे टीम इंडिया में विराट कोहली हों या मुंबई इंडियन में रोहित शर्मा, दोनों ही एक अच्‍छे लीडर की भूमिका में नजर आते हैं। मैं किसी भी टीम में खेलूं अपना सौ फीसदी देने की कोशिश करता हूं। दोनों में मुझे ज्यादा अंतर नहीं लगा।”

पढ़ें:- क्रुणाल पांड्या बोले- मैं क्रिकेट के सभी फॉर्मेट में खेलना चाहता हूं

क्रुणाल को गेंदबाजी ऑलराउंडर कहा जाता है लेकिन वो बल्लेबाजी करना पसंद करते हैं। उन्होंने कहा, “मैं बल्ले और गेंद से बराबर का अभ्यास करता हूं। मुझे लगता है कि मुझे सभी विभाग में अच्छा करना चाहिए और अपना योगदान देना चाहिए और अगर मैं यह कर सका तो इससे टीम को मदद मिलेगी।”

…हार्दिक को इसलिए मिली पहले तरक्‍की 

अपने छोटे भाई के पहले टीम में जगह बनाने से बड़े भाई को परेशानी नहीं है क्योंकि वह कहते हैं कि छोटे को जो मिला है वो उसकी मेहनत है जिसका वो हकदार था। “हार्दिक की छवि से बाहर निकलने का कोई मामला ही नहीं है। हम एक दूसरे की सफलता का लुत्फ उठाते हैं। हमने कभी एक दूसरे से तुलना नहीं कि क्योंकि हमारा सफर अलग रहा है। किसी तरह की असुरक्षा भी नहीं रही। जो भी सफल हुआ उसके लिए दूसरा खुश हुआ। हमारी सोच भी अलग है और ध्यान सिर्फ देश को गर्व करने का मौका देने पर है।”

पढ़ें:- भारत दौरे के लिए अफ्रीकी टीम का ऐलान, डु प्‍लेसिस की टी20 से छुट्टी

…हार्दिक के विवादित चैट शो पर प्रतिक्रिया

क्रुणाल के भाई हार्दिक को हाल ही में एक चैट शो पर दिए गए विवादास्पत बयानों के कारण दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। इस पर बड़े भाई ने कहा, “गलतियां सभी से होती हैं। हम सभी अंत में इंसान हैं, लेकिन हार्दिक की अच्छी बात यह है कि वह अपनी गलती कबूल करता है और उसे सुधारने की कोशिश करता है। कुछ लोग हकीकत को नजरअंदाज करना चाहते हैं लेकिन वो नहीं। उसने अपनी गलतियों से सीखा है और इसके बाद मैदान पर वापसी की है। सिर्फ आईपीएल में नहीं वह भारतीय टीम के लिए भी शानदार खेला है। उसका ध्यान अपने देश के लिए बेहतर करने पर है।”