कुलदीप यादव-युजवेंद्र चहल © AFP
कुलदीप यादव-युजवेंद्र चहल © AFP

टीम इंडिया के सीनियर और सबसे सफल स्पिनर हरभजन सिंह का मानना है कि कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल के रहते रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा के लिए वनडे टीम में जगह बनाना मुश्किल हो जाएगा। भज्जी ने पीटीआई से बातचीत में कहा, “ये हमेशा मुश्किल होता है। अगर आपके दो मौजूदा स्पिनर्स अच्छा कर रहे हैं तो सीनियर गेंदबाजों का वापसी करना मुश्किल हो जाता है। अश्विन और जड्डू के लिए वनडे में वापसी करना कठिन है। इस समय ये दोनों खिलाड़ी काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं और मुझे नहीं लगता कि अश्विन और जडेजा इनकी जगह ले पाएंगे। आप नहीं बता सकते हैं कि भविष्य में क्या होने वाला है।”

हरभजन ने बताया कि कुलदीप यादव को ईडन गार्डन पर ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हैट्रिक लेता देख उन्हें अपना समय याद आ गया। उन्होंने कहा, “वही विपक्षी, वही लम्हा, वही ग्राउंड और एक स्पिनर जिसकी उम्र भी उतनी ही है। जैसे मैं कुलदीप को गेंदबाजी करते देख रहा था मेरा दिमाग समय में पीछे ईडन गार्डन की उस दोपहर में पहुंच गया। यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।” बता दें कि हरभजन ने साल 2001 में कोलकाता के ईडन गार्डन पर ऑस्ट्रेलिया के तीन बेहतरीन खिलाड़ियों (रिकी पॉन्टिंग, एडम गिलक्रिस्ट, शेन वार्न) को आउट कर टेस्ट हैट्रिक ली थी। हरभजन का मानना है कि इस हैट्रिक से कुलदीप का आत्मविश्वास काफी बढ़ेगा। [ये भी पढ़ें: सौरव गांगुली से सामना होते ही सहवाग ने सेटिंग बयान पर लिया ‘यू टर्न’]

उन्होंने कहा, “अगर किसी युवा स्पिनर को अपने करियर की शुरुआत में ही हैट्रिक मिल जाती है तो उसका आत्मविश्वास अलग ही स्तर पर पहुंच जाता है। यह एक ऐसा कीर्तिमान है जिसे हर क्रिकेटर पूरी जिंदगी याद रखता है। ईडन गार्डन किसी को खाली हाथ जाने नहीं देता और ये उपलब्धि इतिहास के पन्नों में दर्ज होगी।” बाएं हाथ के रिस्ट स्पिनर कुलदीप बल्लेबाजों के लिए रहस्य बनते जा रहे हैं। इस बारे में हरभजन ने कहा, “रिस्ट स्पिनर के पास कुछ ऐसी तरकीबें होती हैं जो हर स्थिति में काम करती हैं। चहल के पास अच्छी गुगली है और वह लेग ब्रेक गेंदों को तेजी से घुमा सकता है। ठीक वैसे ही कुलदीप भी गेंद को दोनों तरफ घुमा सकता है। कुलदीप की रॉन्ग’वन गेंद काफी प्रभावी है। इसमें एक्स फैक्टर है।” [ये भी पढ़ें: रुमाल ने रोका विराट कोहली का ‘शतकीय’ कमाल?]

कुलदीप और चहल की तुलना करते हुए हरभजन ने कहा, “दोनों की रफ्तार अलग अलग है, कुलदीप गेंद हवा में थोड़ी धीमी रखता है जबकि चहल ज्यादा गति के साथ गेंद को नीचा रखता है। दोनों एक दूसरे के साथ तालमेल में गेंदबाजी करते हैं। दोनों अपनी उम्र से ज्यादा समझदार हैं और मैं स्थिति को पढ़ने की उसकी योग्यता से प्रभावित हूं। मैं विश्व कप के बारे में नहीं जानता, वह अभी काफी दूर है लेकिन वह दोनों अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं और मुझे उन पर गर्व है। हमें देखना होगा कि वह कितनी आगे जाते हैं और भारत के लिए कितने समय तक प्रदर्शन करते हैं। मैं दोनों को शुभकामनाएं देता हूं।”