लसिथ मलिंगा © IANS (File Photo)
लसिथ मलिंगा © IANS (File Photo)

श्रीलंका के दिग्गज गेंदबाज लसिथ मलिंगा पर एक साल का प्रतिबंध लगा दिया गया है। दरअसल मलिंगा पर ये कार्यवाही अनुशासनात्मक जांच के तहत कॉन्ट्रेक्ट के उल्लंघन करने पर की गई है। उनपर बिना अनुमति के मीडिया से बात करने का आरोप है। मलिंगा ने चैंपियंस ट्रॉफी में श्रीलंका टीम की हार पर किए गए खेल मंत्री दयासिरी जयासेकारा के बयान पर टिप्पणी की थी कि और कहा था कि जिन्हें खेल की जानकारी नहीं होती वो इस तरह की बयानबाजी करते हैं। जिसके बाद बोर्ड ने उन पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करने का फैसला किया था।

सेक्रेटरी मोहन डी सिल्वा, एशले डी सिल्वा और अनुशासनात्मक समिति के चेयरमैन एसेला रेकावा की जांच समिति ने मलिंगा को दोषी माना। वहीं मलिंगा ने भी बोर्ड के हेडक्वार्टर में हो रही बैठक में अपनी गलती मानी और औपचारिक माफी भी मांगी। विशेष रूप से आयोजित कार्यकारी समिति को इस पूरे मामले की जानकारी दी गई। जिसके बाद समिति ने मलिंगा के एक साल के निलंबन की सजा को छह महीने तक ससपेंड कर दिया था। (जिससे सजा 6 महीने की अवधि के भीतर एक समान उल्लंघन की स्थिति में लगाई जाएगी)। साथ ही मलिंगा को अपने अगले एकदिवसीय मैच फीस का 50% जुर्माने के रूप में देना होगा। [ये भी पढ़ें: खेल मंत्री पर बयान देने के बाद फंस गए लसिथ मलिंगा, होगी कार्रवाई]

हालांकि मलिंगा आगामी जिम्बाव्बे सीरीज के लिए टीम में चयन के लिए मौजूद रहेंगे। 30 जुलाई से शुरू हो रहे इस दौरे में श्रीलंका को पांच वनडे और एक टेस्ट मैच खेलना है। चैंपियंस ट्रॉफी में हार के बाद श्रीलंका के लिए ये दूसरा तगड़ा झटका है, मलिंगा उनके प्रमुख गेंदबाजों में से एक हैं और उनके टीम में ना रहने से गेंदबाजी क्रम कमजोर हो जाएगा।