Man of the Match should have been shared between Hardik Pandya and Virat Kohli, says Sachin Tendulkar
Virat Kohli, Hardik Pandya © Getty image

भारतीय टीम ने नॉटिंघम में मेजबान इंग्‍लैंड को हराया तो जीत का का श्रेय विराट कोहली को मिला। उन्‍हें मैन ऑफ द मैच अवार्ड दिया गया। विराट कोहली पहली पारी में शतक से महज 3 रन से चूक गए। उन्‍होंने 97 रन की पारी खेल भारत को बड़े स्‍कोर तक पहुंचाया। दूसरी पारी में भी विराट कोहली ने 103 रन बना इस मैच में अपने 200 रन पूरे किए।

मैन ऑफ द मैच भले ही विराट कोहली को मिला हो, लेकिन मास्‍टर ब्‍लास्‍टर सचिन तेंदुलकर का मानना है कि इस अवार्ड के हकदार विराट कोहली अकेले नहीं है। विराट के साथ-साथ भारत की जीत में ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने भी अहम भूमिका निभाई है। मैन ऑफ द मैच अवार्ड दोनों को संयुक्‍त रूप से दिया जाना चाहिए था।

सचिन तेंदुलकर एक मोबाइल फोन एप के लांच के लिए  पहुंचे थे, इस दौरान उनसे ये सवाल किया गया। सचिन ने कहा, “मैच में दोनों का रोल ही काफी महत्‍वपूर्ण था। पांड्या का रोल पहली पारी के दौरन गेंदबाजी में बेहद महत्‍वपूर्ण था। हार्दिक ने पहली पारी में पांच विकेट निकाले। उन्‍होंने जो रूट, जोनी बेयरस्‍टो जैसे बल्‍लेबाजों को आउट किया”

हार्दिक पांड्या की शानदार गेंदबाजी के कारण इंग्‍लैंड 161 रन पर ऑलआउट हो गया था। जिसके कारण भारत को पहली पारी के आधार पर 168 रन की बढ़त मिली। बता दें कि नॉटिंघम टेस्‍ट से पहले लगातार फ्लॉप होने के कारण हार्दिक पांड्या की हर तरफ से आलोचना हो रही थी। वो न बल्‍ले से कुछ कमाल दिखा पा रहे थे और न ही उनकी गेंदबाजी का असर विरोधी टीम के बल्‍लेबाजों पर दिख रहा था।