बंगाल की टीम के कप्‍तान मनोज तिवारी ने सोमवार को रणजी ट्रॉफी मुकाबले में हैदराबाद के खिलाफ तिहरा शतक जड़ा. तिवारी के इस शानदार प्रदर्शन के दम पर ग्रुप ए के मैच के दूसरे दिन बंगला की टीम ने 635/7 पर पारी घोषित की. तिवारी ने मैच में 414 गेंदों पर नाबाद 303 रनों की पारी खेली. तिवारी ने अपनी पारी में 30 चौके और पांच छक्के लगाए.

पढ़ें:- न्यूजीलैंड दौरे से पहले टीम इंडिया को झटका, चोटिल हुए तेज गेंदबाज इशांत शर्मा

मैच के बाद तिवारी ने कहा कि भारतीय टीम में जगह बनाना अब काफी मुश्किल हो गया है. भारत के लिए 12 वनडे और तीन टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले तिवारी ने अपना आखिरी अंतरराष्‍ट्रीय वनडे मुकाबला साल 2015 में जिम्‍बाब्‍वे क के खिलाफ हरारे में खेला था. साल 2012 में वो आखिरी बार टी20 अंतरराष्‍ट्रीय में खेलते हुए नजर आए थे.

रणजी मुकाबले के बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान तिवारी ने कहा, “इस दुनिया में कुछ भी संभव है. मेरा विश्वास हमेशा मजबूत रहता है चाहे मैं जीरो रन बनाऊं या फिर शतक लगाऊं. मैंने हमेशा अपनी क्षमता और कड़ी मेहनत पर विश्वास किया है.”

पढ़ें:- राहुल द्रविड़ की निगरानी में NCA में रीहैब शुरू करेंगे हार्दिक पांड्या; न्यूजीलैंड दौरे पर नजर

मनोज तिवारी ने कहा, “इसके लिए मैं अपने निजी कोच मनबेंद्र घोष को धन्यवाद देना चाहता हूं. उन्होंने मुझे बेहतर बनने में मदद की है. अगर आपको खुद पर विश्वास हो तो आत्मविश्वास आ ही जाता है. पता नहीं आगे क्या होगा. इस समय भारतीय टीम शानदार प्रदर्शन कर रही है और इसमें जगह बनाना मुश्किल है.”