महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) की कप्तानी में राइजिंग पुणे सुपरजायंट (RPS) के साथ दिल्ली डेयरडेविल्स (अब कैपिटल्स), कोलकाता नाइट राइडर्स और किंग्स इलेवन पंजाब टीमों के लिए खेल चुके मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) को इस सीजन इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में मौका मिलने की उम्मीद है।

12वें आईपीएल सीजन से पहले तिवारी ने कहा, “मेरी कोशिश आईपीएल में मौका पाने की है। पिछले साल मुझे किसी टीम में जगह नहीं मिली थी, जाहिर है कि आईपीएल बड़ा मंच है। मुझे उम्मीद है कि कोई ना कोई मुझे अपनी टीम में मौका देगा।”

तिवारी ने पिछले कुछ सालों में अपने खेल में किए बदलावों के बारे में भी बात की। उन्होंने कहा, “मैं तीनों विभागों में तैयार हूं। चूंकि मेरी स्पिन करने वाली उंगली चोटिल थी, मैं लेग स्पिन नहीं कर पा रहा था। इसी वजह से मैंने ऑफ स्पिन करना शुरू किया क्योंकि मैं टीम के लिए योगदान देना चाहता था और फ्रेंचाइजी के लोगों को दिखाना चाहता था कि मैं गेंदबाजी भी कर सकता हूं।”

अपने नए हुनर के बारे में तिवारी ने आगे कहा, “बात चार ओवर के स्लॉट की नहीं है, बात उस एक ओवर की है जो आईपीएल में प्रभाव डालता है, जहां मैं एक अहम ओवर में योगदान दे सकता हूं। और वो मुझे एक विकल्प के तौर पर देखें। इसी वजह से मैंने इसकी शुरूआत की थी, ताकि मैं आईपीएल में चुना जाऊं, अपने कप्तान और टीम जो कि आईपीएल नीलामी में मौजूद हूं, उनको ज्यादा विकल्प दे सकूं।”

भारतीय टीम को आईसीसी खिताब जिताना चाहते हैं कोच रवि शास्त्री

साल 2017 में आखिरी बार आईपीएल में नजर आए तिवारी ने अगले सीजन नीलामी में ना खरीदे जाने पर अपनी निराशा खुलकर जाहिर की थी। तिवारी ने ट्वीट किया था, “मुझे नहीं पता कि मेरी तरफ से क्या गलत हुआ। चार मैन ऑफ द मैच अवार्ड जीतने और अपने देश के लिए एक शतक बनाने के बाद मुझे अगले 14 मैचों से ड्रॉप कर दिया गया??? आईपीएल 2017 के दौरान मैने जो अवार्ड जीते, उन्हें जीतने के बाद मुझे समझ नहीं आ रहा है कि क्या गलती हुई है?”

34 साल के तिवारी ने कहा कि उम्र केवल एक नंबर है और वो अगले दस साल तक क्रिकेट खेलना चाहते हैं। ईएसपीएनक्रिकइंफो को दिए बयान में उन्होंने कहा, “उम्र केवल एक नंबर है। अगर हम दुनिया भर के दिग्गज खिलाड़ियों के इंटरव्यू देखें तो वो भी यही कहते हैं। मैं 34 साल का हूं और अगले दस साल तक खेलने की योजना है। मुझे पता है कि आसान नहीं होगा। अगर वसीम (जाफर) भाई कर सकते हैं तो मैं भी, अगर जहीर खान 42 साल की उम्र में गेंदबाजी कर टी10 में विकेट निकाल सकते हैं तो मैं क्यों नहीं।”

रणजी ट्रॉफी में बंगाल के लिए खेलने वाले इस क्रिकेटर ने आगे कहा, “मेरी प्रायिकता है अपने प्रदर्शन को पिछले सीजन से बेहतर बनाना। और साथ ही अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमता के साथ प्रदर्शन करना और निरंतरता को बनाए रखना। जहां तक टीम इंडिया में चुने जाने की बात है मेरा विश्वास है कि एक अच्छा रणजी सीजन मेरी किस्मत बदल सकता है।”