बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) की नजर गैर अनुबंधित भारतीय खिलाड़ियों पर लगी हुई है. बीसीबी इन क्रिकेटर्स को अपने घरेलू टी-20 लीग में जोड़ना चाहता है.

Syed Mushtaq Ali Trophy 2019-20 : डोपिंग मामले में 8 महीने का बैन झेलने वाले पृथ्वी शॉ की अर्धशतकीय वापसी

मैच फिक्सिंग और कुछ विदेशी खिलाड़ियों के भुगतान में देरी से 2011 में शुरू किए गये बांग्लादेश प्रीमियर लीग (BPL) की छवि धूमिल हुई थी जिसके बाद देश के क्रिकेट बोर्ड ने इसे पूरी तरह से अपने नियंत्रण में ले लिया और इसे ‘बंगबंधु बीपीएल’ का नया नाम दिया.

बीसीसीआई से अनुबंधित नहीं होने वाले खिलाड़ियों को दिया प्रस्ताव

बीसीबी अध्यक्ष नजमुल हसन ने शनिवार को कहा, ‘हमने उन भारतीय खिलाड़ियों को लाने का प्रस्ताव रखा है जो उनके बोर्ड (BCCI) से अनुबंधित नहीं हैं. वे सैद्वांतिक तौर पर खेल सकते हैं.’

IPL2020: विराट कोहली को RCB की कप्तानी दिए जाने पर फैंस बोले-फिर वही गलती

उन्होंने कहा, ‘मैं पक्के तौर पर नहीं कह सकता कि हम इस बीपीएल में उन्हें ले पाएंगे लेकिन उम्मीद है कि भविष्य में ऐसा होगा.’

विदेशी टी20 लीग में खेलने की अनुमति नहीं देता है

बीसीसीआई अपने क्रिकेटरों को विदेशी टी20 लीग में खेलने की अनुमति नहीं देता है लेकिन युवराज सिंह जैसे खिलाड़ी सभी तरह की क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद विदेशी लीग में खेले हैं जिनमें ग्लोबल टी20 कनाडा भी शामिल है.

मानविंदर बिस्ला और मनप्रीत गोनी ड्राफ्ट में शामिल

दिलचस्प तथ्य यह है कि तीन भारतीय क्रिकेटरों मानविंदर बिस्ला, तेज गेंदबाज मनप्रीत गोनी और राजस्थान रॉयल्स के पूर्व खिलाड़ी कुमार बोरेसा उन 439 विदेशी खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्होंने बीपीएल के नए सत्र के लिए ड्राफ्ट में अपने नाम सूचीबद्ध किए हैं. ये तीनों खिलाड़ी हालांकि बीसीसीआई की केंद्रीय अनुबंध प्रणाली का हिस्सा नहीं हैं.

मनइस समय बांग्लादेश की टीम भारत दौरे पर तीन मैचों की टी-20 और दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलने आई है.

(इनपुट-भाषा)