कोविड-19 वैश्विक महामारी के कारण इस समय क्रिकेट की सभी गतिविधियां ठप्प है. खिलाड़ी अपने घरों में कैद होने को मजबूर हैं. भारत सहित कई देशों में इस समय लॉकडाउन घोषित है. खिलाड़ी अपने मैदान पर वापसी को बेकरार हैं. इंग्लैंड के तेज गेंदबाज मार्क वुड का कहना है कि अगर कोरोनावायरस के बावजूद इस सीजन में घरेलू इंटरनेशनल सीरीज खेली जाती हैं तो वह अपने परिवार से दूर इंग्लैंड टीम के साथ 2 महीने से अधिक का समय बिताने के लिए तैयार हैं.

गार्जियन की रिपोर्ट के अनुसार खिलाड़ियों को ‘पृथकवास’ में रखने की योजना है ताकि उनका कोविड-19 से संक्रमित होने का खतरा कम हो सके. इस दौरान हर दिन उनकी जांच की जाएगी.

जुलाई से इंग्लैंड को 6 टेस्ट, 6 वनडे और 6 टी-20 मैचों की सीरीज खेलनी है 

इस योजना पर अभी चर्चा चल रही है क्योंकि इंग्लैंड को जुलाई से दो महीने से अधिक समय तक छह टेस्ट, छह एकदिवसीय मैच और छह टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने हैं. वह वेस्टइंडीज और पाकिस्तान के खिलाफ तीन– तीन टेस्ट मैचों की दो श्रृंखलाएं खेलेगा.

महामारी के कारण इंग्लिश क्रिकेट का सत्र एक जुलाई से पहले शुरू नहीं हो पाएगा. वेस्टइंडीज के खिलाफ श्रृंखला जून में शुरू होनी थी लेकिन उसे पहले ही आगे खिसका दिया गया है.

इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) की प्राथमिकता पुरुष अंतरराष्ट्रीय मैचों का आयोजन करना है क्योंकि अनुमानों के अनुसार अगर पूरा सत्र खराब होता है तो उसे 38 करोड़ पाउंड का नुकसान होगा.

आम घरेलू सत्र में इंग्लैंड के खिलाड़ी अपने परिवारों के साथ रह सकते हैं लेकिन वुड ने कहा कि जो प्रस्ताव है वह किसी विदेश दौरे के कार्यक्रम से भिन्न नहीं है.

उन्होंने गुरुवार को कान्फ्रेंस कॉल के जरिये पत्रकारों से कहा, ‘मैं ऐसा करने के लिए तैयार हूं. लंबे समय तक विदेश दौरों पर रहने के कारण आपको इसकी आदत पड़ जाती है.’

वुड ने कहा, ‘यह मुश्किल होगा लेकिन जब तक पूरा वातावरण सुरक्षित है, मेरा परिवार सुरक्षित है और वहां रहने वाला हर व्यक्ति सुरक्षित है तो मैं ऐसा करना पसंद करूंगा.’ लॉकडाउन में वुड अभी अपनी पत्नी और बेटे के साथ में रह रहे हैं.