Marnus Labuschagne: Pretty tough to fill Steve Smith’s shoes

लीड्स टेस्ट में रन आउट होकर एशेज सीरीज का अपना पहला शतक जड़ने से चूके मार्नस लाबुशेन का कहना है कि दिग्गज बल्लेबाज स्टीव स्मिथ कमी पूरी करना बेहद मुश्किल है। उन्होंने कहा, “स्टीव स्मिथ की कमी पूरी करना बेहद मुश्किल होगा लेकिन मैं निजी तौर पर केवल अपने खेल पर ध्यान देने की कोशिश कर रहा हूं।”

तीसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद मीडिया के सामने आए लाबुशेन ने कहा, “बतौर बल्लेबाज मैं जितने शतक बना सकता हूं उतने शतक बनाना चाहता हूं लेकिन बात ज्यादा से ज्यादा बड़ी बढ़त हासिल करने की थी।”

लाबुशेन की 80 रनों की पारी के दम पर ऑस्ट्रेलिया ने 359 रन की विशाल बढ़त हासिल की। अगर ऑस्ट्रेलिया टीम लीड्स टेस्ट जीतने में कामयाब रहती है तो इसका बड़ा श्रेय लाबुशेन को जाएगा।

‘सिर पर गेंद लगना अच्छा नहीं होता लेकिन इससे नींद खुल जाती है’

लॉर्ड्स टेस्ट में चोटिल हुए स्मिथ की जगह जब लाबुशेन को अचानक मौका मिला तो उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट के अपने शानदार प्रदर्शन को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भी जारी रखा। लाबुशेन ने माना कि काउंटी चैंपियनशिप में ग्लेमोर्गन टीम के लिए खेलना उनके लिए फायदेमंद रहा।

लाबुशेन ने कहा, “ग्लेमोर्गन के लिए खेलने से काफी मदद मिली। अलग हालातों में स्विंग हो रही गेंद के खिलाफ खेलना और अपने खेल के बारे में सीखना और बोर्ड पर बड़े रन लगाने से जाहिर तौर पर मुझे काफी मदद मिली है और मेरा आत्मविश्वास भी बढ़ा है।”

लीड्स टेस्‍ट: जीत से 203 रन दूर इंग्‍लैंड, ऑस्‍ट्रेलिया को चाहिए 7 विकेट

उन्होंने कहा, “फिर (काउंटी क्रिकेट से) यहां आना- मुझे लगता है कि मैंने बाकी फॉर्मेट ज्यादा नहीं खेले हैं, जिससे मेरा ध्यान इसी (टेस्ट फॉर्मेट की) ओर जाता है। मेरा ध्यान वास्तव में रेड-बॉल क्रिकेट पर था। यहां तक का सफर और तैयारी वास्तव में अच्छी थी।”

25 साल की उम्र में ऑस्ट्रेलिया के लिए एशेज खेलना, जबकि आप प्रारंभिक स्क्वाड का हिस्सा भी नहीं थे, लाबुशेन के लिए सपना सच होने जैसा है। उन्होंने कहा, “हर बच्चा एशेज खेलने का सपना देखता है। तब आपकी मानसिकता होता है कि आप खेलना चाहते हैं और काउंटी सीजन के आखिर तक ये वास्तविकता बन गई।”