मास्‍टर ब्‍लास्‍टर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) अपने समय में जितने बड़े खिलाड़ी रहे असल जिंदगी में भी वो उतने ही अच्‍छे इंसान हैं. वो समाज के कमजोर वर्ग के लोगो की मदद के लिए हमेशा आगे रहते हैं. अब सचिन तेंदुलकर ने आर्थिक रूप से कमजोर 560 आदिवासी बच्चों की मदद करने के लिए एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) के साथ हाथ मिलाया है.

सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने ‘एनजीओ परिवार’ के साथ भागीदारी की है जिसने मध्य प्रदेश के सीहोर जिले के दूरदराज के गांवों में सेवा कुटीर का निर्माण किया है.

इस जिले के सेवानिया, बीलपति, खापा, नयापुरा और जामुनझील गांव के बच्चों को तेंदुलकर की संस्था की मदद से पौष्टिक भोजन और शिक्षा प्रदान की जा रही हैं. ये बच्चे मुख्य रूप से बरेला भील और गोंड जनजातियों से हैं.

यहां जारी विज्ञप्ति के मुताबिक, ‘‘ सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) की यह पहल मध्य प्रदेश के उन आदिवासी बच्चों के प्रति उनकी चिंता का प्रमाण है, जो कुपोषण और अशिक्षा से त्रस्त हैं.’’

तेंदुलकर यूनिसेफ के सद्भावना दूत के रूप में में नियमित रूप से ‘बच्चों के प्रारंभिक विकास’ जैसे जरूरी मुद्दे पर बोलते रहे हैं.