मैथ्यू हेडन ने दलाई लामा से मिलने को जिंदगी का खास लम्हा बताया

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें एडिशन के आयोजन पर खतरा मंडरा रहा है. कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते इस टूर्नामेंट को 15 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दिया गया है लेकिन आगे भी इसके आयोजन को लेकर संशय है. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज मैथ्यू हेडन का कहना है कि तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा से मिलना उनकी जिंदगी के सबसे खास लम्हों में से एक रहा. आईपीएल फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपर किंग्स के पूर्व ओपनर हेडन को 2010 में धर्मशाला में किंग्स इलेवन पंजाब और चेन्नई के बीच खेले गए मैच के दौरान दलाई लामा से मिलने का मौका मिला था.

On This Day in 1984: पाकिस्तान को पस्त कर भारत ने रचा था इतिहास, बना एशिया का बादशाह

चेन्नई ने अपने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें हेडन ने कहा, ‘2010 में मुझे दलाई लामा से मिलने का मौका मिला था. यह मेरी जिंदगी का शानदार लम्हा था. मुझे उस व्यक्ति से मिलने का अवसर मिला, जो बेहद खास थे. मुझे अभी भी याद है कि उस मैच में हमें 190 रन की जरूरत थी और हम दबाव में थे. इसके बाद महेंद्र सिंह धोनी मैदान पर उतरे और उन्होंने केवल 27 गेंदों पर ही 54 रनों की पारी खेली. सुरेश रैना ने भी 46 रनों का योगदान दिया. दोनों ने 150 से ज्यादा के औसत से रन बनाए और हम फाइनल में पहुंच गए.’

हेडन ने आईपीएल में दूसरी बेस्ट मेमोरी को याद करते हुए कहा, ‘मेरी दूसरी यादें 2010 के फाइनल में मुंबई इंडियंस के खिलाफ की है. मेरे लिए यादगार लम्हा वह है जब एल्बी मोर्कल ने किरेन पोलार्ड को आउट कर दिया था. धोनी ने मुझे मिड ऑफ पर लगाया और मैंने पोलार्ड का कैच लेकर उसे चलता कर दिया. पोलार्ड के आउट होने के बाद हम चैंपियन बनकर सामने आए.’

कोरोना वायरस की वजह से लियाम प्लंकेट का भविष्य खतरे में

चेन्नई सुपर किंग्स ने 2010 के फाइनल में मुंबई इंडियंस को 22 रन से हराकर खिताब जीता था. चेन्नई का यह पहला खिताब था. मुंबई इंडियंस ने 4 बार आईपीएल खिताब अपने नाम किया है चेन्नई 3 बार चैंपियन बनी है.