मैथ्यू वेड © Getty Images
मैथ्यू वेड © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया के विकेटकीपर मैथ्यू वेड ने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट में एक बड़ी उपलब्धि अपने नाम कर ली। वेड ने एक ऐसे रिकॉर्ड की बराबरी की जो 1955 के बाद ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट इतिहास में कभी नहीं हुआ था। दरअसल, वेड ने दूसरे टेस्ट मैच में 3 खिलाड़ियों को स्टंप आउट किया और इसके साथ ही वो साल 1955 के बाद ऑस्ट्रेलिया की तरफ से एक टेस्ट मैच में 3 स्टंपिंग करने वाले पहले खिलाड़ी बन गए। इससे पहले ये रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के गिल लेंग्ले के नाम था। लेंग्ले ने वेस्टइंडीज के खिलाफ इस कारनामे को अंजाम दिया था।

वेड अब साल 1955 के बाद ऐसा करने वाले ऑस्ट्रेलिया के पहले विकेटकीपर बन गए हैं। वेड ने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट की पहली पारी में सब्बीर रहमान को लायन की गेंद पर स्टंप आउट किया। इसके बाद उन्होंने दूसरी पारी में पहले तमीम इकबाल और फिर सब्बीर रहमान को स्टंप आउट कर इस बड़ी उपलब्धि को अपने नाम कर लिया। दिलचस्प बाद ये है कि वेड ने तीनों ही स्टंपिंग लायन की गेंदों पर कीं। इसी मैच में लायन ने भी ऑस्ट्रेलिया की तरफ से विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। ये भी पढ़ें: नाथन लायन ने रचा इतिहास, बना डाला ऑस्ट्रेलिया की तरफ से ‘सबसे बड़ा रिकॉर्ड’

लायन दो मैचों की किसी भी टेस्ट सीरीज में ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज बन गए हैं। लायन ने जॉन जेम्स फैरिस को पीछे छोड़कर इस उपलब्धि को अपने नाम किया। लायन ने बांग्लादेश के खिलाफ पहले टेस्ट में कुल 9 विकेट लिए थे। वहीं दूसरे टेस्ट में खबर लिखे जाने तक वो 11 विकेट ले चुके हैं। इस हिसाब से दोनों टेस्ट को मिलाकर लायन 20* विकेट अपने नाम कर चुके हैं। अब से पहले ऑस्ट्रेलिया का कोई भी गेंदबाज 2 मैचों में इतने विकेट हासिल नहीं कर सका था। लायन ने एक बड़े रिकॉर्ड को अपने नाम कर लिया है। लायन से पहले ये रिकॉर्ड जेम्स फेरिस (18) और मैकडेरमॉट (18) के नाम था लेकिन अब लायन ने दोनों को पछाड़कर इस रिकॉर्ड को अपने नाम कर लिया।