Matthew Wade: Playing as a specialist batsman takes a lot of pressure off you
मैथ्यू वेड (IANS)

सितंबर 2017 के ऑस्ट्रेलिया के बांग्लादेश दौरे के बाद से टेस्ट टीम से बाहर चल रहे मैथ्यू वेड ने घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन कर एशेज सीरीज में धमाकेदार वापसी की। वेड ने एजबेस्टन टेस्ट की दूसरी पार में शानदार शतक जड़ा और ऑस्ट्रेलिया को 398 की बढ़त दिलाने में मदद की।

वेड के कमबैक का पहला कदम था टीम में अपनी भूमिका को समझना। कप्तान टिम पेन के रहते उन्हें टेस्ट टीम में विकेटकीपर बल्लेबाज की जगह नहीं मिल सकती थी, इसलिए वेड ने खुद को स्पेशलिस्ट बल्लेबाज के तौर पर तैयार किया। उन्होंने पिछले घरेलू सीजन में शेफील्ड शील्ड टूर्नामेंट में तस्मानिया के लिए खेलते हुए रनों का अंबार लगा दिया, जिसका ईनाम उन्हें एशेज टीम में चयन से मिला।

ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज ने माना कि स्पेशलिस्ट बल्लेबाज की तरह खेलने का दबाव विकेटकीपर बल्लेबाज की भी भूमिका से कम है। उन्होंने कहा, “मैं फिलहाल उम्र के उस पड़ाव पर हूं, जहां मैं अपने खेल को पहले से बेहतर तरीके से समझता हूं और एक स्पेशलिस्ट बल्लेबाज की तरह से खेलने से फर्क पड़ता है। इससे आप के ऊपर से दबाव कम होता है। आप फील्ड पर थोड़ा रीलेक्स रह सकते हैं। आप बतौर विकेटकीपर लंबे समय पर ध्यान लगाकर नहीं रहते हैं। पिछले 6-8 महीनों में मैंने पाया है कि ये चीज मेरे खेल के लिए बहुत अच्छी है।”

‘ड्रीम कमबैक’ के बाद बोले स्मिथ- हर दिन क्रिसमस जैसा लग रहा है

वेड ने एजबेस्टन में 143 गेंदो पर 110 रनों की शानदार पारी खेली। लेकिन उन्हें अभी भी इस बात पर विश्वास नहीं हो रहा है कि वो एशेज में ऑस्ट्रेलिया के लिए खेल रहे हैं।

उन्होंने कहा, “अभी तक इसे पूरी तरह हजम नहीं कर पाया हूं, एशेज सीरीज का पहला मैच और इसे खेलना ही सपना सच होने जैसा था, टीम की संभावित जीत में योगदान करना तो दूर की बात है। मुझे लगता है कि मैच के बाद तक मैं इस पर पूरी तरह यकीन नहीं कर पाउंगा और शायद उसके बाद अभ्यास मैच तक भी नहीं। लेकिन पिछले कुछ सालों में मैंने जितनी मेहनत की है इस बात से अनजान रहते हुए कि मुझे मौका मिलेगा या नहीं, मुझे उस पर गर्व है।”