दिसंबर 2018 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट डेब्यू करने वाले भारतीय शीर्ष क्रम बल्लेबाज मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) को अब वनडे फॉर्मेट में खेलने का मौका मिला है। सलामी बल्लेबाज शिखर धवन (Shikhar Dhawan) के चोटिल होने के बाद वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज के लिए टीम इंडिया में शामिल हुए मयंक का कहना है कि उन्हें टेस्ट के बाद वनडे फॉर्मेट में खेलने के लिए मानसिकता में बदलाव करने में कोई परेशानी नहीं है। अग्रवाल का कहना है कि वो टेस्ट क्रिकेट खेल रहे हों या सीमित ओवरों का क्रिकेट उनका ध्यान हमेशा काम पर होता है।

अग्रवाल ने ‘चहल टीवी’ पर कहा, ‘‘मैं इस तरह जितना अधिक खेलूंगा मेरे लिए उतना ही अच्छा होगा क्योंकि मुझे खाली बैठने की जगह क्रिकेट खेलने का मौका मिलेगा। जब मानसिकता बदलने (फॉर्मेट में बदलाव के कारण) की बात आती है तो बेसिक्स समान रहते हैं। अगर रणनीति स्पष्ट है तो फॉर्मेट के अनुरूप ढलना आसान होता है और खेल को लेकर आपकी समझ स्पष्ट होती है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं कहीं पर भी खेलूं, मैं हमेशा यही सोचता हूं कि मैं अपनी टीम के लिए कैसे फायदेमंद हो सकता हूं और मैं कैसे टीम को योगदान दे सकता हूं। अगर मैं रन नहीं भी बना पाऊं तो मैं फील्डिंग में योगदान देने के बारे में सोचता हूं, मैदान पर अधिक ऊर्जा लेकर आता हूं।’’

इंग्लिश क्रिकेटर ने IPL समेत फ्रेंचाइजी क्रिकेट से ब्रेक लिया

2019 सीजन में टेस्ट में सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ियों में से एक अग्रवाल भारत के लिए अब तक दो दोहरे शतक सहित तीन शतक जड़ चुके हैं।