Mayank Markande’s coach Munish Bali convinced him to bowl leg-spin
Mayank Markande © AFP

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 24 फरवरी से शुरू होने वाली टी20 सीरीज के लिए भारतीय स्क्वाड में जगह बनाने वाले लेग स्पिनर मयंक मारकंडे दरअसल तेज गेंदबाज बनना चाहते थे। टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत में मयंक ने बताया कि करियर की शुरुआत में उनका झुकाव तेज गेंदबाजी की तरफ था लेकिन कोच मुनीश बाली के समझाने पर वो लेग स्पिनर बन गए।

ये भी पढ़ें: टेस्ट क्रिकेट में छक्के से खाता खोलने पर बोले पंत ‘राशिद की गुगली को पहले से पढ़ लिया था’

मंयक ने बताया कि कोच बाली ने उनसे कहा था कि ‘मयंक तुम्हारे पास तेज गेंदबाज बनने वाला शरीर नहीं है। तुम्हारी बाजुओं में ताकत नहीं है’। मयंक ने आगे कहा, “बाली सर ने मुझे स्पिन गेंदबाजी करने के लिए कहा, क्योंकि मेरे हाथों में ज्यादा ताकत नहीं थी। मैं तेज गेंदबाज बनना चाहता था लेकिन बाली सर की सलाह ने मेरी जिंदगी बदल दी।”

ये भी पढ़ें: स्मिथ-वार्नर के ना होने से युवा खिलाड़ियों को हुआ नुकसान- हेजलवुड

कोच मुनीश बाली की सलाह ने वाकई मयंक की जिंदगी बदल दी। मुंबई इंडियंस टीम में बतौर लेग स्पिनर शामिल हुए मयंक ने पहले ही मैच में चेन्नई सुपर किंग्स के तीन बड़े बल्लेबाजों, जिसमें महेंद्र सिंह धोनी भी शामिल थे, उनके विकेट लिए।

ये भी पढ़ें: ‘विश्व कप स्क्वाड में जगह के लिए प्रतिद्वंदिता सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने को प्रेरित करती है’

मंयक को स्पिन गेंदबाजी करने की सलाह देने पर कोच बाली ने कहा, “मयंक की कलाई मजबूत है। अगर आपकी कलाई मजबूत है और आप लेग स्पिनर हैं तो आप कमाल कर सकते हैं। वो उस समय नया खिलाड़ी था। मुझे लगा कि ये उसे तैयार करने का सही समय है। लेग स्पिनर्स की कमी भी थी। इसलिए मैंने उसे समझाया और लेग स्पिन करने के लिए प्रेरित किया। हालांकि मैंने उस पर किसी तरह का दबाव नहीं डाला। मैंने उसे उसकी ताकत और कमजोरियां दिखाई। उसने मेरी बात सुनी और नतीजा आपके सामने है।”