Michael Clarke says not looking for wickets, trying to save runs cost Australia
Kedar Jadhav with MS Dhoni @ IANS

हैदराबाद वनडे में 237 रनों के छोटे लक्ष्‍य का बचाव कर रही ऑस्‍ट्रेलिया की टीम ने 99 रन के स्‍कोर पर ही भारत के चार विकेट गिरा दिए थे, लेकिन इसके आगे मेहमान टीम एक भी विकेट नहीं निकाल पाई। टीम इंडिया ने मैच छह विकेट से अपने नाम कर दिया। ऑस्‍ट्रेलिया के पूर्व कप्‍तान माइकल क्‍लार्क का मानना है कि रक्षात्‍मक अप्रोच के कारण उनकी टीम को मैच में हार का सामना करना पड़ा।

पढ़ें: धोनी-जाधव की अर्धशतकीय पारी, ऑस्ट्रेलिया को 6 विकेट से हराया

महेंद्र सिंह धोनी 59(72) और केदार जाधव  81(87) के बीच चौथे विकेट के लिए 141 रन की अटूट साझेदारी बनी। ऑस्‍ट्रेलिया के गेंदबाज इस नाबाद साझेदारी को तोड़ पाने में असफल रहे। दोनों नाबाद पवेलियन लौटे।

माइकल क्‍लार्क ने कहा, “हैदराबाद वनडे के दौरान कई क्षेत्र ऐसे हैं जिसमें भारत ने ऑस्‍ट्रेलिया को परास्‍त किया है। हमने 30 से 35 रन कम बनाए। हमने शुरुआत में काफी अच्‍छी गेंदबाजी की। हमारी टीम गेंदबाजी के दौरान अपनी अप्रोच में काफी उग्र नजर आ रही थी। दुख की बात है कि बीच के ओवरों में टीम के रवैये में बदलाव देखने का मिला।”

पढ़ें: फिंच का फ्लॉप शो जारी, पिछले 7 वनडे में महज 1 बार बनाए 20 से ज्‍यादा रन

क्‍लार्क ने कहा, “बीच के ओवरों में हमारी टीम विकेट निकालने के बजाए रन रोकने को तवज्‍जो देने लगी। मुझे लगता है कि यही चीज टीम के खिलाफ गई।” टीम इंडिया हैदराबाद वनडे को 10 गेंद बाकी रहते ही जीतने में सफल रही। नाथन कूल्‍टर नाइल और एडम जम्‍पा को दो-दो विकेट मिले।