इंग्लैंड के टेस्ट कप्तान जो रूट (Joe Root) ने टीम के स्पिन ऑलराउंडर मोईन अली (Moeen Ali) के टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद अपनी पहली प्रतिक्रिया दी है. रूट ने कहा कि उनका टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेना टीम के लिए विभिन्न कारणों से बड़ा नुकसान है. उन्होंने इस फॉर्मेट में बहुत शानदार प्रदर्शन किया है. पिछले सप्ताह जब उनसे बात हुई थी तब मैं समझ गया था कि कुछ ऐसा होने वाला है.

34 साल के ऑफ स्पिन ऑलराउंडर मोईन ने सोमवार को टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहा. जो रूट ने कहा कि मोईन के पास लाल गेंद के इस फॉर्मेट में कई बेहतरीन यादे हैं उन्होंने शानदार खेल खेला. लेकिन उनका संन्यास लेना टीम के लिए झटका है.

जो रूट (Joe Root) ने कहा, ‘मोईन का करियर अपने आप में दिखाता है कि उन्होंने क्या हासिल किया है. उन्होंने टेस्ट क्रिकेट में काफी अच्छा किया है. वह साथ खेलने वाले महान लोगों में से एक रहे हैं. मुझे उनके साथ ड्रेसिंग रूम साझा करने में बहुत मजा आया और हमारे पास मैदान पर और मैदान के बाहर बहुत सारी अद्भुत यादें हैं.’

उन्होंने कहा, ‘जब मैं कप्तान के रूप से हटूंगा तो कई चीजें हैं जिन पर मैं पीछे मुड़कर देखूंगा. एक बात मैं कहूंगा कि मोईन (Moeen Ali) ने शानदार खेल खेला है. आप देखें कि उन्होंने कितने मैचों को प्रभावित किया है. टेस्ट मैच के प्रारूप में क्रिकेट के मैदान पर उनके पास जितने विशेष क्षण हैं, वह असाधारण है. मुझे निश्चित रूप से बहुत सी आश्चर्यजनक चीजें याद होंगी, जो उन्होंने हासिल की हैं. बेशक, कई बार हम चीजों को थोड़ा अलग तरीके से कर सकते थे.’

रूट ने कहा, ‘मैंने पिछले सप्ताह उनसे बात की थी और उनके बात करने से तरीके से लग रहा था कि ऐसा कुछ हो सकता है. लेकिन उनका संन्यास लेना विभिन्न कारणों से टीम के लिए बड़ा झटका है. लेकिन मैं उनके शेष करियर के लिए शुभकामनाएं देता हूं. उम्मीद करता हूं कि अभी भी कई क्रिकेट बचा है जो उनके साथ मैं वनडे में खेल सकता हूं.’

बता दें इस हरफनमौला खिलाड़ी ने इस फॉर्मेट में साल 2014 में टेस्ट डेब्यू किया था. उन्होंने इंग्लैंड के लिए लाल गेंद के इस फॉर्मेट में कुल 64 टेस्ट मैच खेले, जिनमें उनके नाम 28.29 के औसत से 2914 रन हैं, जबकि उन्होंने 36.66 और औसत से 195 विकेट अपने नाम किए हैं.

(इनपुट: एजेंसी)