Mohammad Kaif on Yograj Singh allegations: MS Singh don’t believe in favouritism
Yuvraj Singh with ms dhoni © Twitter

टी20 विश्‍व कप 2007 और विश्‍व कप 2011 को जीताने में अहम भूमिका निभाने वाले भारतीय टीम के पूर्व विस्‍फोटक बल्‍लेबाज युवराज सिंह (Yuvraj Singh) अब क्रिकेट से संन्‍यास ले चुके हैं, लेकिन युवी के पिता योगराज सिंह (Yograj Singh) आरोप लगा चुके हैं कि उनके बेटे के करियर को खत्‍म करने में पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) और मौजूदा कप्‍तान विराट कोहली (Virat Kohli) की भूमिका है। हालांकि मध्‍यक्रम के बल्‍लेबाज रहे मोहम्‍मद कैफ (Mohammad Kaif) इस तर्क से इत्‍तेफाक नहीं रखते हैं।

पढ़ें:- श्रीसंत बोले-मुझे MS Dhoni या CSK से नहीं बल्कि उस पीली जर्सी से नफरत है जो मुझे…

मोहम्‍मद कैफ (Mohammad Kaif) ने कहा , “मुझे नहीं लगता कि युवराज सिंह के पिता के आरोप सही हैं। हां, हमें यह भी समझना होगा कि युवी खेल के सबसे छोटे प्रारूप का चैंपियन खिलाड़ी रहा है। उसे और मौके दिए जाने चाहिए थे, लेकिन भारत में जब एक खिलाड़ी कुछ मैचों में अपनी फॉर्म गंवाता है तो उसके लिए अपनी जगह बनाए रख पाना आसान नहीं होता। ऐसा इसलिए होता है कि बहुत से योग्‍य खिलाड़ी टीम में जगह बनाने के लिए मौके का इंतजार कर रहे होते हैं।

पढ़ें:- गेंद पर थूक या पसीना लगाने पर लगे बैन : एमएसके प्रसाद

मोहम्‍मद कैफ (Mohammad Kaif) ने कहा, “धोनी पसंदीदा खिलाड़ी को टीम में रखने में विश्‍वास नहीं रखते हैं। वो सफेद गेंद के क्रिकेट के सबसे कामयाब कप्‍तान रहे हैं। उन्‍हें अपनी टीम चुनने की आजादी तो मिलनी ही चाहिए। जब वो खिलाड़ी प्रदर्शन नहीं कर पाता तो उसपर सवाल उठाए जा सकते हैं।”

“उनका रिकॉर्ड बेहद शानदार है। वो भारत के लिए कई ट्रॉफी जीत चुके हैं। ऐसे में चयनकर्ता भी उनकी सोच का सम्‍मान करते हुए उन्‍हें आजादी देते हैं। यहां फेवरेट खिलाड़ी को चुनने वाली कोई बात नहीं है।”