×

कोहली की तारीफ और आंसुओं की कहानी- दिल की बात करते हुए इमोशनल हुए सिराज

मोहम्मद सिराज आज भी उस बात को याद करके इमोशनल हो जाते हैं. सिराज ने इसके साथ ही विराट कोहली की खूब तारीफ की. उन्होंने बताया कि कोहली आज भी 11 बजे सोने चले हैं.

siraj and kohli

मोहम्मद सिराज ने की कोहली की तारीफ (फोटो- आईपीएल)

भारतीय टीम के पेसर मोहम्मद सिराज ने विराट कोहली की तारीफ की है. सिराज ने का कहना है कि हर बार मैदान पर उतरते वक्त विराट कोहली जो प्रतिबद्धता और अच्छा करने की भूख दिखाते हैं वह सभी के लिए प्रेरणा है. सिराज और विराट कोहली के बीच रिश्ता काफी गहरा है. इससे पहले भी कई बार यह भारतीय तेज गेंदबाज भारत और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के पूर्व कप्तान की तारीफ कर चुका है.

विराट कोहली ने सिराज को बहुत सपॉर्ट किया है. आईपीएल में धीमी शुरुआत के बावजूद कोहली ने सिराज को काफी मौका दिया. भारतीय टीम में भी कोहली ने हैदराबाद के इस पेसर को लगातार जगह दी. इस साल के आईपीएल में सिराज का प्रदर्शन बहुत अच्छा रहा है. सिराज ने 11 मैचों में कुल 15 विकेट लिए हैं. वह सीजन में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज हैं.

विराट कोहली के लिए भी यह साल बेहतर रहा है. कोहली ने 11 मैचों में 420 रन बनाए हैं. इसमें छह हाफ सेंचुरी शामिल हैं. वह इस सीजन में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में छठे नंबर पर हैं. सिराज ने गौरव कपूर के यूट्यूब शो ‘ब्रेकफस्ट विद चैंपियंस’ में अपने करियर के शुरुआती दिनों की एक रोचक बात बताई.

उन्होंने बताया, ‘विराट भैया ज्यादा से ज्यादा रात 11 बजे सोने चले जाते हैं. चाहे उन्होंने शतक बनाया हो जीरो, वह एक तय रूटीन को फॉलो करते हैं और फिर वह आपको ब्रेकफर्स्ट पर मिलेंगे और फिर जिम में मुलाकात होगी. जो फिटनेस स्टैंडर्ड उन्होंने सेट किया है वह बिलकुल अलग स्टैंडर्ड का है. इतना सब हासिल करने के बाद भी वह आराम से नहीं बैठते हैं. वह अब भी भूखे हैं और बेहतर करना चाहते हैं. सलाम है.’

बॉर्डर गावस्कर 2020-21 के दौरान सिराज के पिता का निधन हो गया था. वह उस समय ऑस्ट्रेलिया में थे और कोरोना की प्रतिबद्धताओं के चलते वह हैदराबाद नहीं लौट पाए थे. उन्होंने भारत के लिए अपना टेस्ट डेब्यू किया और अपने पिता का सपना पूरा किया. उन्होंने कहा कि उनके पिता उन्हें टेस्ट डेब्यू करते देख काफी खुश होते. और उन्होंने यह भी बताया कि आखिर राष्ट्रगान बजते समय उनकी आंखों में क्यों आंसू थे.

उन्होंने कहा, ‘(राष्ट्रगान के दौरान रोने पर) मेरा टेस्ट डेब्यू बहुत अच्छा रहा और मेरे महरूम पिता हमेशा कहा करते थे, ‘बेटे, टेस्ट क्रिकेट खेलो. यहीं असली इज्जत मिलती है’ अगर वह जिंदा होते, तो वह खुश होते कि उनके बेटे ने उनका सपना पूरा कर दिया. उनकी दुआएं हमेशा मेरे साथ हैं.’

trending this week