महेंद्र सिंह धोनी © Getty Images
महेंद्र सिंह धोनी © Getty Images

पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर करके एक मोबाइल कंपनी पर आरोप लगाया है कि उसके साथ करार दिसंबर 2012 में समाप्त होने के बावजूद वह उन्हें ब्रांड एंबेसडर के रूप में पेश करके उनके नाम का दुरूपयोग कर रही है। उच्च न्यायालय ने मैक्स मोबिलिंक के शीर्ष अधिकारियों की खिंचाई की। धोनी ने अपनी याचिका में दलील दी थी कि यह फर्म उसके पूर्व के आदेश का पालन नहीं कर रही है। न्यायमूर्ति मनमोहन ने कहा, “आप (मैक्स) आदेश का पालन क्यों नहीं कर रहे हो। आपको अदालत के निर्देशों का पालन करना चाहिए। ये भी पढ़ें: भारत बनाम इंग्लैंड, दूसरा टी20I, नागपुर(प्रिव्यू): सीरीज में वापसी करने उतरेगी टीम इंडिया

दोनों पक्षों को इस मामले की 28 जुलाई को होने वाली अगली सुनवाई से पहले 21 अप्रैल 2016 के आदेश का पालन करने का निर्देश दिया जाता है।” अदालत धोनी की उस याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें कंपनी के सीएमडी अजय अग्रवाल के खिलाफ अदालत के 17 नवंबर 2014 के आदेश का पालन नहीं करने के लिये अवमानना की कार्रवाई करने की अपील की गयी थी। अदालत ने तब मैक्स मोबिलिंक को ऐसे किसी भी उत्पाद की बिक्री नहीं करने के लिये कहा था जिसके विज्ञापन में इस क्रिकेटर के नाम का उपयोग किया गया हो। हालांकि यह पहली बार नहीं है जब धोनी इस तरह के मामले में फंसे हो, इससे पहले भी एक मैगजीन ने उनकी एक विवादित तस्वीर छाप दी थी। जिस वजह से धोनी को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा था। ये भी पढ़ें: सचिन तेंदुलकर ने ईडन गार्डन पर अपने सबसे यादगार मैच को याद किया

धोनी फिलहाल टीम इंडिया के साथ नागपुर में हैं जहां आज शाम इंग्लैंड के खिलाफ दूसरा टी20 मैच खेला जाएगा। भारत पहला मैच हार चुका है इसलिए यह मैच टीम के लिए काफी अहम है।