महेंद्र सिंह धोनी © Getty Images
महेंद्र सिंह धोनी © Getty Images

भारत की एक दिवसीय क्रिकेट टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी द्वारा एक विज्ञापन में खुद को कथित रूप से भगवान विष्णु की तरह दिखाए जाने के मामले में शुक्रवार को सर्वोच्च न्यायालय से राहत मिली। शीर्ष अदालत ने धोनी के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही पर रोक लगा दी है। धोनी ने याचिका दायर कर अपने खिलाफ मामले को आंध्र प्रदेश के अनंतपुर से बेंगलुरु स्थानांतरित करने का आग्रह किया है। न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने शिकायतकर्ता येरागुंतला श्याम सुंदर को नोटिस जारी कर पूछा है कि धोनी के खिलाफ उनके द्वारा दायर आपराधिक मामले को क्यों न धोनी की इच्छा के अनुसार स्थानांतरित कर दिया जाए। ये भी पढ़ें: सबसे मुश्किल था लारा को आउट करना: मुरलीधरन

अदालत ने सुंदर और राज्य की पुलिस से आठ हफ्ते में जवाब देने को कहा और इस दौरान आपराधिक कार्यवाही को रोकने का आदेश दिया। इससे पहले शीर्ष अदालत ने बेंगलुरु की एक अदालत में धोनी के खिलाफ आपराधिक कार्यवाही पर रोक लगाई थी। ये भी पढ़ें: टी-20 विश्व कप में हेलमेट पहनेगें अंपायर

आपको बता दें कि भारतीय वनडे टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गए हुए है जहां भारतीय टीम ने कल खेले गए दूसरे टी-20 मैच में 27 रनों से जीत हासिल की और इसके साथ ही साथ टीम इंडिया ने टी-20 सीरीज पर अजेय बढ़त बना लिया।

भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया से अभी एक और टी 20 मैच खेलना बाकि है 31 तारिक को खेले जाने वाले मैच में टीम इंडिया कंगारू टीम को क्लीनस्वीप करने उतरेगी। गौरतलब हैं भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के हाथों वनडे मैचों की सीरीज गवां चुकी हैं। ऑस्ट्रेलिया के हाथों पांच मैच में से टीम इंडिया को केवल 1 जीत हासिल हुई थी।