महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास लेने के बाद विराट कोहली टेस्ट टीम के कप्तान बने थे © Getty Images
महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास लेने के बाद विराट कोहली टेस्ट टीम के कप्तान बने थे © Getty Images

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के साल 2014 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद विराट कोहली ने टेस्ट टीम की कमान संभाली। मैदान पर शांत रहने वाले कैप्टन कूल और आक्रामक रवैये के लिए मशहूर कोहली की टेस्ट कप्तानी में जमीन आसमां का फर्क है। हालांकि दोनों ही को अपने-अपने तरीकों से सही नतीजे मिलते रहे हैं। आज श्रीलंका के खिलाफ मैच में जब कोहली ने 309 की विशाल बढ़त के बाद भी फॉलोऑन नहीं देने का फैसला किया तो हमारी नजर इन आंकड़ों पर पड़ी।

बतौर टेस्ट कप्तान कोहली के सामने ऐसे 7 मौके आए हैं जब वह फॉलोऑन देकर विपक्षी टीम पर दबाव बढ़ा सकते थे लेकिन कोहली ने इनमें से केवल दो बार ही फॉलोऑन लिया। वहीं धोनी में पांच मैचों में से कुल चार बार ऐसा किया। अगर नतीजों की बात करें तो दोनों ही कप्तान के नाम सौ प्रतिशत सफलता का रिकॉर्ड है। धोनी ने जिन चार मैचों में फॉलोऑन का सहारा लिया उन सभी मैचों में उन्हें जीत मिली है। वहीं कोहली ने जिन चार मैचों में संभावना होते हुए भी फॉलोऑन नहीं लिया, उन चारों ही मैचों में कोहली को जीत हासिल हुई है। [ये भी पढ़ें: भारत बनाम श्रीलंका, गॉल टेस्ट, तीसरा दिन (लाइव ब्लॉग): टीम इंडिया की बढ़त 400 के पार]

विराट कोहली ने अपनी टेस्ट कप्तानी में अब तक खेले 27 में से 16 मैचों में जीत हासिल की है। वहीं धोनी ने बतौर टेस्ट कप्तान 60 में से 27 मैच जीते हैं। टेस्ट में कोहली का कुल जीत प्रतिशत लगभग 60 का है जबकि धोनी का जीत प्रतिशत केवल 45 है।