मोहम्मद शमी © IANS
मोहम्मद शमी © IANS

इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में भारत के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी चोटिल हो गए थे। चोटिल होने के बाद भारत के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी आजकल नेशनल क्रिकेट एकेडमी में घुटने की चोट से उबर रहे हैं। उत्तरप्रदेश का यह 29 वर्षीय गेंदबाज पिछले कुछ समय से टीम इंडिया के तेज गेंदबाजी आक्रमण की जान बन गया है। टेस्ट सीरीज में भी चोटिल होने से पहले शमी ने बेहतरीन गेंदबाजी की थी। लेकिन चोटिल होने के कारण वह टीम से बाहर हो गए थे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार शमी ने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी और उनके संबंध पिता और बेटे की तरह हैं। धोनी बेहद शानदार खिलाड़ी हैं। शमी ने कहा, धोनी और अब विराट कोहली के नेतृत्व में पूरी टीम एकजुट होकर खेल रही है। खिलाड़ियों के बीच की एकता टीम की ताकत है। टीम की खासियत यह है कि सभी एक-दूसरे की सफलता में खुश होते हैं। ये भी पढ़ें: किंग्स इलेवन पंजाब के कोच बन सकते हैं वीरेन्द्र सहवाग

शमी को अपनी चोट के चलते इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज से टीम से बाहर होना पड़ा था। शमी ने अपनी चोट के बारे में कहा, मैं अब ऐसी स्थिति में पहुंच गया हूं, जहां थोड़ा सा भी दर्द साफ तौर पर महसूस होता है और यदि थोड़ी भी सूजन हो तो उसका इलाज कराना होता है। मैं ऐसी स्थिति में खेलते रहकर कोई जोखिम नहीं उठा सकता। इसलिए परिवार से दूर रहकर इस चोट से उबर रहा हूं और अब मुझे टीम में वापसी का इंतजार है।

शमी ने भारतीय क्रिकेटरों को इंग्लिश काउंटी में खेलने के विराट कोहली के सुझाव का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि इससे भारतीय क्रिकेटरों को इंग्लिश परिस्थितियों में खेलने का अनुभव मिलेगा, जो टीम के इंग्लैंड दौरे पर काम आएगा।