MS Dhoni like captains are very much required: Kamran Akmal
महेंद्र सिंह धोनी (IANS)

भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्गज कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद कई बड़े क्रिकेटरों ने उन्हें शुभकामनाएं दी। जिसमें पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शोएब अख्तर, शाहिद आफरीदी, इंजमाम उल हक शामिल हैं।

अब पाक क्रिकेटर कामरान अकमल ने कहा है कि उन्हें इस तरह के रिटायरमेंट का ऐलान नहीं करना चाहिए था। अकमल का मानना है कि धोनी जैसे खिलाड़ी को सम्मान के साथ विदा किया जाना चाहिए।

पाक टीवी से बातचीत में उन्होंने कहा, “वो ऐसा खिलाड़ी है जो टीम को साथ लेकर चलता है। कप्तानी करना आसान है, मैं कप्तानी करता हूं तो टीम में मेरी जगह पक्की रहती है, चाहे टीम हारे या जीते, मुझे कोई परवाह नहीं। लेकिन धोनी की खासियत ये है कि वो टीम बना रह थे और उनका निजी प्रदर्शन भी विश्वस्तरीय थी।”

उन्होंने कहा, “आप देख सकते हैं कि उसने जिन खिलाड़ियों को तैयार किया, वो आज भी नंबर-एक हैं। वो केवल देश के लिए अच्छा करना चाहता है। ऐसे खिलाड़ियों को इस तरह नहीं जाना चाहिए, उसका सम्मान किया जाना चाहिए उसके मैदान पर फेयरवेल मैच दिया जाना चहिए, जैसा कि सचिन को दिया गया। वो अपने नाम ‘मिस्टर कूल’ की तरह की शांति से गया। ऐसे खिलाड़ी क्रिकेट में कम ही आते हैं।”

पाकिस्तान क्रिकेट में MS Dhoni की हो रही खूब चर्चा, जानिए किसने क्या कहा

अकमल ने ना केवल भारतीय टीम में धोनी के योगदान की तारीफ की बल्कि ये भी कहा कि पाकिस्तान क्रिकेट को भी कैप्टन कूल जैसे कप्तान की जरूर है।

उन्होंने कहा, “ऐसे कप्तानों की जरूरत है। हमने इंजी भाई और यूनिस भाई को देखा, उन्होंने किस तरह से टीम को संभाला। एमएस धोनी भारत के लिए खेलने को बना था और वो देश के लिए खेला। वो हम सबके लिए एक उदाहरण है। उसने ना केवल क्रिकेट खेला बल्कि एक टीम को तैयार किया और भारत को आगे ले गया। इस तरह की मानसिकता हमारे कप्तानों में भी होनी चाहिए।”

पाकिस्तान टीम के बारे में विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा, “आजकल, आप देख सकते हैं कि वो केवल अपनी जगह बचाने के लिए खेल रहे हैं और उन्हें इस बात की कोई चिंता नहीं है कि टीम जीते या हारे। ये चीजें किसी भी देश की टीम के लिए खतरनाक हैं।”

CPL 2020: आसिफ अली की शानदार पारी के दम पर जमैका टीम ने सैंट लूसिया को दी मात

अकमल ने आगे कहा, “मैंने ऐसे कप्तानों को पाकिस्तान टीम में आते देखा है। ये मौजूदा कप्तानों के लिए अपील है कि जब तक वो जीत हासिल नहीं करते हैं और उनका प्रदर्शन विश्वस्तरीय नहीं है, जिस तरह से धोनी ने किया, हम उस तरह आगे नहीं बढ़ पाएंगे।”