झारखंड टीम के अनाधिकारिक मेटोर हैं धोनी। © AFP
झारखंड टीम के अनाधिकारिक मेटोर हैं धोनी। © AFP

भारत के सीमित ओवर के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी आज एक चार्टेड फ्लाइट के नागपुर पहुंच चुके हैं। यहां वह झारखंड टीम का सेमीफाइनल मैच में हौसला बढ़ाने आए हैं। धोनी जिन्हें रांची का राजकुमार भी कहा जाता है रणजी सत्र की शुरूआत से ही अपनी घरेलू टीम झारखंड का साथ देते आए हैं। धोनी झारखंड टीम के अनाधिकारिक मेंटोर भी हैं। हालांकि वह साल 2014 में टेस्ट से संन्यास ले चुके हैं और इसलिए क्रिकेट के लंबे फॉर्मेट नहीं खेलते हैं। लेकिन धोनी कई बार अभ्यास सत्रों में झारखंड टीम के साथ खेलते देखे गए हैं। खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन करने के साथ धोनी अहम नेट सेशन्स में भी टीम के साथ रहते हैं। ये भी पढ़ें:रणजी ट्रॉफी सेमीफाइनल मैचों के पहले दिन का लाइव ब्लॉग

धोनी के आते ही दर्शकों का सारा ध्यान मैच से हट गया और सभी धोनी-धोनी चिल्लाने लगे। कल से ही खबरें आने लगी थी कि धोनी रणजी सेमीफाइनल मैच में झारखंड टीम का उत्साहवर्धन करने के लिए पहुंच सकते हैं और आज धोनी ने यह सच कर दिखाया। ऐसा कम ही होता है कि एक राष्ट्रीय टीम का कप्तान किसी स्टेट टीम के लिए ऐसा करे लेकिन धोनी को इससे कोई आपत्ति भी नहीं हैं।  धोनी ने झारखंड टीम का कई  मैचों में मार्गदर्शन किया है। यह गलत नहीं है कि उनके यहां आने से खिलाड़ियों का हौसल काफी बढ़ जाएगा। ये भी पढ़ें: रिकी पान्टिंग बनेंगे ऑस्ट्रेलिया टीम के सहायक कोच

अब यह देखना होगा कि झारखंड टीम धोनी की सलाह का कितना फायदा ले पाती है। लेकिन धोनी के आने से इस मैच का महत्व काफी बढ़ गया है। साथ ही लोगों में इस मैच के प्रति रूचि भी बढ़ गई होगी।