एमएस धोनी  © Getty Images
एमएस धोनी © Getty Images

भारतीय टीम के सीमित ओवरों के कप्तान एमएस धोनी ने वनडे और टी20I क्रिकेट की कप्तानी से इस्तीफा दे दिया है। धोनी ने साल 2014 में टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले लिया था और तबसे वह भारतीय टीम की वनडे और टी20I में ही कप्तानी कर रहे थे। धोनी ने बीसीसीआई को बताया कि वह टीम इंडिया के वनडे और टी20I की कप्तानी पद से इस्तीफा देना चाहते हैं। वह इंग्लैंड के खिलाफ वनडे और टी20 के सिलेक्शन के लिए उपलब्ध रहेंगे और यही बात सीनियर सिलेक्शन कमेटी को भी बताई गई है। राहुल जोहरी जो बीसीसीआई के चीफ एक्जीक्यूटिव अधिकारी हैं उन्होंने कहा, “इंडियन क्रिकेट फैन्स और और बीसीसीआई की ओर से मैं धोनी को उनके सभी फॉर्मेटों में अभिन्न योगदान के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। उनकी अगुआई में भारत ने नई ऊंचाईयों को छुआ। और उनकी उपलब्धियां हमेशा इंडियन क्रिकेट के वर्षक्रमिक इतिहास में अंकित रहेंगी।” [ये भी पढ़ें: इंग्लैंड को वनडे सीरीज में हराने के लिए टीम इंडिया को अमल करनी होगीं ये 5 बातें]

 

भारत की ओर से अब तक कुल 283 वनडे खेल चुके एमएस धोनी ने 199 मैचों में कप्तानी की। जिसमें टीम इंडिया ने 110 में जीत दर्ज की और 74 में हार झेली। इसके अलावा चार मैच टाई रहे। वहीं 11 मैच अनिर्णित रहे। धोनी का वनडे में सक्सेज प्रतिशत 59.57 है। जो भारतीयों के बीच सर्वश्रेष्ठ है। वहीं वह सबसे ज्यादा वनडे मैचों में कप्तानी करने वाले खिलाड़ी हैं। वह साल 2007 से 2016 तक टीम इंडिया के कप्तान रहे। इस दौरान उन्होंने साल 2011 का विश्व कप टीम इंडिया को जितवाया और 2013 की चैंपियंस ट्रॉफी में टीम इंडिया को विजयी बनाया। धोनी भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे सफल कप्तान हैं। जाहिर है कि टीम इंडिया अब विराट कोहली को अपने उत्तराधिकारी के रूप में देख रही है जिन्होंने डेढ़ साल से टेस्ट क्रिकेट में अपनी विजय पताका फहरा रखी है।