कपिल देव © CricketCountry
कपिल देव © CricketCountry

भारत को साल 1983 का विश्व कप दिलाने वाले कप्तान कपिल देव ने भारतीय सीमित ओवरों के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का समर्थन करते हुए कहा कि धोनी के पास बहुत अनुभव है और उन्हें और उन्हें तक तक कप्तानी करते रहना चाहिए जब तक वह अच्छा परिणाम दे रहे हैं। समय-समय पर धोनी की जगह टेस्ट कप्तान विराट कोहली को कप्तानी सौंपनी की बात होती रहती है। कपिल देव ने कहा कि धोनी अभी अच्छा कर रहे हैं और जब तक वह अच्छा कर रहे हैं उन्हें कप्तानी करने देना चाहिए। समय आने पर धोनी खुद ही तीनों प्रारूपों की कप्तानी छोड़ देंगे।

जब कपिल से धोनी और कोहली की कप्तानी के बीच तुलना करने को कहा गया तो उन्होंने कहा कि अभी दोनों के बीच तुलना करना और इसका जवाब देना बहुत ही जल्दबाजी होगी। कोहली बहुत आक्रामक हैं तो धोनी बहुत ही शांत। कल दोनों की कप्तानी की तुलना सौरव गांगुली से भी हो सकती है। लेकिन हर किसी के कप्तानी करने का तरीका अलग होता है, इसलिए हर कप्तान की रणनीति अलग होती हैलेकिन ये इस चीज पर निर्भर करता है कि वह अपनी टीम से कितना ले पा रहा है।  भारत बनाम इंग्लैंड पांचवें टेस्ट मैच के लाइव ब्लॉग को पढ़ने के लिए क्लिक करें

कपिल देव ने साथ ही कहा कि भारत की तेज गेंदबाजी में सुधार देखने को मिला है। तेज गेंदबाज ना सिर्फ 140 की गति से गेंदों को फेंक रहे हैं बल्कि सटीक लाइन और लेंग्थ पर भी गेंदों को रख रहे हैं। अगर आपकी गति 135 की है और आपको स्विंग मिल रही है तो ये आपको लिए काफी है और आप विकेट ले सकते हैं। लेकिन अगर आपके पास गति है तो आपके लिए फायदेमंद होता है। ये काफी अच्छा है कि भारतीय तेंज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार, ईशांत शर्मा, उमेश यादव और मोहम्मद शमी अच्छी गेंदबाजी कर रहे हैं।