एमएस धोनी © Getty Images
एमएस धोनी © Getty Images

विकटों के पीछे अपने सबसे तेज और सुरक्षित हाथ चलाने के लिए प्रसिद्ध टीम इंडिया के पूर्व कप्तान एमएस धोनी वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में उस अंदाज में विकटकीपिंग करते नजर नहीं आए जिसके लिए वह जाने जाते हैं। टीम इंडिया ने वेस्टइंडीज को दूसरे वनडे में हराकर सीरीज में 1-0 से बढ़त ले ली है। इस मैच के साथ डेब्यू कर रहे कुलदीप यादव ने शानदार गेंदबाजी की और टीम इंडिया की जीत में अहम भूमिका निभाई। बाएं हाथ के गेंदबाज कुलदीप यादव ने वेस्टइंडीज के ओपनर, शाई होप, ईविल लुईस और जेसन होल्डर को आउट किया। और इस तरह से उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने टेस्ट डेब्यू की याद दिला दी।

वेस्टइंडीज की कम अनुभव वाली टीम को कुलदीप की गेंदों को पढ़ने में खासी मशक्कत करनी पड़ी। इसी दौरान वेस्टइंडीज के कप्तान जेसन होल्डर विकटों के पीछे एमएस धोनी की एक बेहतरीन स्टंपिंग का शिकार बने। कुलदीप यादव की गेंद पर एक बड़ा स्ट्रोक लगाने के लिए होल्डर क्रीज से बाहर निकले , लेकिन गेंद को पढ़ नहीं पाए। चूंकि, होल्डर काफी बाहर निकल आए थे और उनका क्रीज में वापिस जाना नामुमकिन था इसलिए धोनी ने बड़े आराम से उन्हें स्टंप्ड आउट कर दिया। जैसे ही होल्डर वापस लौटे मैच टीम इंडिया के नियंत्रण में आ गया। [भारत बनाम वेस्टइंडीज, दूसरा वनडे, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें]

 

इसके पहले धोनी ने ओपनर किरेन पावेल को भुवनेश्वर कुमार की गेंद पर लपका। वहीं ईविन लुईस दूसरे शिकार थे जिन्हें उन्होंने उसी अंदाज में लपका। वह कुलदीप के मैच के दूसरे शिकार थे। एमएस धोनी वनडे में श्रीलंका के कुमार संगकारा के बाद दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा स्टंपिंग करने वाले विकेटकीपर हैं। वह सबसे तेज 100 स्टंपिंग पूरे करने से अब 4 स्टंपिंग दूर ही हैं। कुमार संगकारा ने 404 वनडे मैचों में 99 स्टंपिंग अपने नाम की थी।