मोहाली टेस्ट में भारत ने इंग्लैंड को आठ विकेट से हराया। © Getty Images
मोहाली टेस्ट में भारत ने इंग्लैंड को आठ विकेट से हराया। © Getty Images

मोहाली टेस्ट में भारत से हारने के बाद इंग्लैंड टीम अब तक अचंभे में है। सीरीज शुरू होने से पहले इंग्लैंड के कोच ने कहा था कि हमारे खिलाड़ी भारतीय टीम पर ज्यादा ध्यान नही देंगे। लगता है कोच की बात मानकर सच में कुक एंड कंपनी ने ध्यान ही नहीं दिया कि पिछली बार जिस टीम को उन्होंने हराया था, यह टीम उससे काफी अलग है। साल 2012 में इंग्लैंड की टीम ने भारत का दौरा किया था और भारत को टेस्ट सीरीज में 2-1 से हराया था। कप्तान एलियेस्टर कुक को अब यह एहसास हुआ है कि उस टीम में और साल 2106 की इस टीम में जमीन आसमान का अंतर है। ये भी पढ़ें: युवराज सिंह और हेजल कीच की शादी का लाइव अपडेट हिंदी में

कुक ने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली की टीमों की तुलना करते हुए कहा, “जिस भारत के साथ हम 2012 में खेले थे वह काफी अलग थी। इस टीम में मुकाबले में वह टीम बूढ़ी कही जा सकती है। यह एकदम अलग सेट अप है, कई सारे युवा खिलाड़ी है जिन्हें इन स्थितियों पर खेलने का लगभग चार साल का अनुभव भी है। 2012 में हमारी टीम काफी अनुभवी थी और भारतीय उप-महाद्वीप में काफी क्रिकेट खेल चुकी थी।” 2012 में भारत दौरे पर आई इंग्लैंड टीम में कुक के साथ केविन पीटरसन, मैट प्रोयर, जिमी एंडरसन, ग्रेम स्वॉन और मोंटी पनेसर थे। कुक ने आगे कहा, “इस समय हमारी जो टीम है उसके केवल एक या दो शीर्ष क्रम के खिलाड़ियों ने ही बांग्लादेश दौरे से पहले भारतीय उप-महाद्वीप में क्रिकेट खेला है, यही फर्क है।” कुक ने यह भले ही कहा हो कि मौजूदा इंग्लैंड टीम कम अनुभवी है पर उनका मानना है कि वह मैच फिर भी जीत सकते थे। इस बारें में उन्होंने कहा, “हमने आखिरी दो टेस्ट मैचों ने अच्छा प्रदर्शन नहीं किया। यह बात और भी ज्यादा बुरी है जब आप जानते हो कि आप अच्छा खेल सकते हो फिर भी आप ऐसा न करें।” ये भी पढ़ें: जब महेंद्र सिंह धोनी ने सचिन तेंदुलकर के साथ मिलकर उड़ाई शाहिद अफरीदी की गिल्लियां

वहीं कप्तान कुक ने भारत के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी की काफी तारीफ की। याद दिला दें कि वाइजैग मैच में शमी ने कुक का विकेट दो टुकड़ों में तोड़कर उन्हें बोल्ड किया था। कुक ने शमी के बारे में बात करते हुए कहा, “हमें पहले से ही पता था कि वह अच्छा गेंदबाज है। मैं उसके खिलाफ कई बार खेला हूं और उसका रिकॉर्ड भारतीय उप-महाद्वीप में बेहतरीन है। अगर देखा जाय तो इन परिस्थितियों में वह अच्छी गेंदबाजी करता है यह बात वैसे काफी आश्चर्यजनक है।