एम एस धोनी ने राजकोट में खेली धीमी पारी © AFP
एम एस धोनी ने राजकोट में खेली धीमी पारी © AFP

एम एस धोनी ने अपने करियर में ना जाने टीम इंडिया को कितने मैच जिताए लेकिन राजकोट टी20 में एम एस धोनी टीम इंडिया की हार की सबसे बड़ी वजह बन गए। ये बात कई भारतीय क्रिकेट फैंस के गले नहीं उतरेगी, लेकिन ये है बिलकुल सच। राजकोट की जिस पिच पर न्यूजीलैंड के बल्लेबाजों ने धुआंधार रन बनाए उसी पिच पर एम एस धोनी फंस कर रह गए और अपनी टीम की हार की स्क्रिप्ट लिख डाली। एम एस धोनी ने भले ही राजकोट में 37 गेंद में 49 रन बनाए लेकिन क्रीज पर आते ही उन्होंने कई गेंदों पर रन नहीं बनाए और भारत मैच हार गया।

धोनी ने कैसे हराया मैच?

197 रनों का लक्ष्य का पीछा करने वाली टीम को अच्छी शुरुआत की जरूरत होती है लेकिन टीम इंडिया के ओपनर शिखर धवन और रोहित शर्मा जल्दी आउट हो गए। श्रेयस अय्यर भी ज्यादा देर विकेट पर नहीं टिके और हार्दिक पांड्या ने तो सिर्फ दो गेंदें ही खेली और पैवेलियन की राह पकड़ ली। हार्दिक पांड्या जब आउट हुए तब टीम इंडिया का स्कोर 9.1 ओवर में 67 रन बनाए थे। इसके बाद एम एस धोनी ने कदम रखा और वो न्यूजीलैंड के गेंदबाजों के फेर में फंस गए। एम एस धोनी बड़े शॉट तो नहीं खेल सके साथ ही वो विराट कोहली को स्ट्राइक भी नहीं दे पाए।

राजकोट टी20 में न्यूजीलैंड का पलटवार, टीम इंडिया की 40 रनों से हार
राजकोट टी20 में न्यूजीलैंड का पलटवार, टीम इंडिया की 40 रनों से हार

एम एस धोनी और विराट कोहली के बीच 44 गेंद में महज 56 रनों की साझेदारी हुई। जिसमें धोनी ने 24 गेंद में सिर्फ 25 रन बनाए। इस दौरान धोनी ने 9 डॉट गेंद खेल डाली। दूसरी ओर विराट कोहली भी 20 गेंद में 29 रन ही बना सके और आखिरकार उन्होंने अपना विकेट गंवा दिया। उन्होंने अर्धशतक जरूर लगाया लेकिन वो टीम इंडिया को जीत नहीं दिला सके। पिछले कुछ मुकाबलों में देखा जा रहा है कि एम एस धोनी गेंद को ठीक से नहीं पढ़ पा रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के लेग स्पिनर एडम जंपा ने धोनी को परेशान किया वहीं राजकोट में ईश सोढ़ी ने भी धोनी को तंग किया, ये बेहद ही हैरानी वाली बात है क्योंकि एम एस धोनी स्पिनर्स को बेहद सहजता से खेलते हैं लेकिन अब इसका उलट ही हो रहा है।