महेंद्र सिंह धोनी लगभग ढाई महीने के अंतराल के बाद मैदान में वापसी करेंगे © Getty Images
महेंद्र सिंह धोनी लगभग ढाई महीने के अंतराल के बाद मैदान में वापसी करेंगे © Getty Images

भारत और इंग्लैंड के बीच 15 जनवरी से तीन वनडे मैचों की सीरीज का आगाज होगा। अब खबर यह मिल रही है कि भारतीय सीमित ओवरों के कप्तान एमएस धोनी वनडे सीरीज में बिना किसी प्रैक्टिस मैच के उतरेंगे। गौरतलब है टेस्ट सीरीज के बाद और वनडे सीरीसज से पहले बोर्ड ने कोई भी घरेलू अभ्यास मैच नहीं रखा है। जिसका साफ मतलब है कि एमएस धोनी को इंग्लैंड सीरीज से पहले अभ्यास मैच खेलने का मौका नहीं मिलेगा और धोनी को इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में लंबे ब्रेक के बाद सीधा मैच खेलने ही उतरना होगा।

आपको बता दें कि धोनी ने इससे पहले अपना आखिरी वनडे मैच न्यूजीलैंड के खिलाफ 29 अक्टूबर को खेला था। भारत ने न्यूजीलैंड को सीरीज में हरा दिया था। लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ पहला वनडे 15 जनवरी को खेला जाना है ऐसे में लगभग ढाई महीने के लंबे अंतराल के बाद धोनी सीधा अंतरराष्ट्रीय मुकाबला खेलने उतरेंगे। इससे पहले पिछले साल जब धोनी को ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए खुद को तैयार करना था तो उन्होंने विजय हजारे ट्रॉफी में भाग लिया था। लेकिन इस साल विजय हजारे ट्रॉफी फरवरी के मध्य में खेली जाएगी जिसका साफ मतलब है कि इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी को अभ्यास का कोई मौका नहीं मिलेगा। ये भी पढ़ें: चौथे टेस्ट में रिद्धिमान साहा की जगह पार्थिव पटेल का खेलना लगभग तय

धोनी पहले ही टेस्ट से संन्यास ले चुके हैं ऐसे में उनका रणजी में खेलने का सवाल नहीं बनता लेकिन अब जब उनकी घरेलू टीम ने रणजी के नॉकआउट दौर में प्रवेश कर लिया है तो धोनी इसपर फैसला ले सकते हैं कि क्या वह रणजी में खेलें या फिर नहीं। भारतीय टीम के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने कहा कि हमें इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि धोनी रणजी में खेलेंगे या फिर नहीं। हमारे पास जो खबर है वो यह है कि धोनी फिलहाल अपनी घरेलू टीम झारखंड के साथ अभ्यास सत्र में भाग ले रहे हैं। साफ है कि इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज से पहले धोनी को अभ्यास मैच खेलने का कोई मौका नहीं मिलेगा। ऐसे में यह देखना वाकई दिलचस्प होगा कि धोनी इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में बल्ले से क्या कमाल दिखा पाते हैं।