MSK Prasad: ICC World Cup 2019 planning started right after Champions Trophy final
India vs Pakistan (Getty Images)

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल मैच में पाकिस्तान के खिलाफ मिली हार हर भारतीय फैन से जहन में ताजा बनी हुई है। लंदन में खेले गए इस मैच में भारतीय बल्लेबाजी पूरी तरह से नाकाम रही और 158 पर ऑलआउट होकर टीम इंडिया 180 रन के बड़े अंतर से मैच हार गई। हालांकि इसी मैच से 2019 विश्व कप की तैयारी का भारत का सफर शुरू हुआ, ऐसा कहना है टीम के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद का।

विश्व कप की योजना चैंपियंस ट्रॉफी की हार के बाद शुरू हो गई थी

प्रसाद ने क्रिकबज को दिए इंटरव्यू में कहा, “विश्व कप की तैयारियां 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के ठीक बाद शुरू हो गई थी। उस मैच के बाद हमने अपनी कमियों का विश्लेषण किया और उन पर काम करना शुरू किया। हमने नए कॉम्बिनेशन आजमाए और मुझे लगता है कि हम जो करना चाहते थे उसमें काफी सफल रहे।”

दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड की की गलतियों से ऑस्ट्रेलिया में मिली मदद

प्रसाद के कार्यकाल में ही भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया में पहली टेस्ट सीरीज जीती, जो कि बड़ी उपलब्धि है। हालांकि ऑस्ट्रेलिया में एकतरफा जीत दर्ज करने से पहले भारत इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज हारा, जहां प्लेइंग इलेवन चुनने को लेकर किए गए फैसलों की काफी आलोचना भी हुई। लेकिन प्रसाद का कहना है कि उन गलतों फैसलों ने ऑस्ट्रेलिया में सही कॉम्बिनेशन चुनने में मदद की।

ये भी पढ़ें: न्यूजीलैंड ने 8 विकेट से जीता तीसरा वनडे, सीरीज भारत के नाम

उन्होंने कहा, “टीम की प्लेइंग इलेवन को लेकर किए गए मैनेजमेंट के किसी भी फैसले के पीछे कोई छुपा हुआ मकसद नहीं होता है। कई बार हम गलतियां करते हैं जो इंसान का गुण हैं। कई बार पिछले आंकड़ों की बजाय फॉर्म को देखकर फैसले लिए जाते हैं। मुझे यकीन है कि दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में हुए अनुभव से हमें ऑस्ट्रेलिया में सही कॉम्बिनेशन चुनने में मदद मिली। टीम इंडिया का लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा मैच जीतना है और इस प्रक्रिया में हमें कड़े फैसले लेने पड़ते हैं।”

ये भी पढ़ें: विश्व कप को ध्यान में रखकर टीम में किए जा रहे बदलावों के हक में हैं डेविड मिलर

मैनेजमेंट और चयनसमिति के कड़े फैसलों में से एक है टीम इंडिया का 6 बल्लेबाजों-पांच गेंदबाजों के कॉम्बिनेशन से सीधा 7 बल्लेबाजों-चार गेंदबाजों के कॉम्बिनेशन का इस्तेमाल करना, जिसमें भारत को सफलता मिली है। इस बारे में प्रसाद ने कहा, “मुझे लगता है कि विदेश में खेलते हुए 7-4 का कॉम्बिनेशन सही है। खासकर कि जब हमारे तेज गेंदबाज अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं, ऐसे में पांचवें गेंदबाज की जरूरत खत्म हो गई है। इससे हमें बल्लेबाजी को मजबूत करना का मौका मिलता है।”