रिद्धिमान साहा © AFP
रिद्धिमान साहा © AFP

रिद्धिमान साहा ने ईरानी कप में दोहरा शतक लगाकर इतिहास रच दिया अब भारतीय टीम के मुख्य चयनकर्ता एम एस के प्रसाद ने साहा को लेकर एक बड़ा बयान दिया है। चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने संकेत दिए कि रिद्धिमान साहा आगामी मैचों के लिए भारतीय टेस्ट टीम में अपना उचित स्थान दोबारा हासिल करेगा क्योंकि वह चोट के कारण बाहर हुए थे और ईरानी कप का मैच उनकी फिटनेस को परखने का एक जरिया था।

प्रसाद ने कहा, ‘हमने स्पष्ट कर दिया है कि चोट से वापसी करने वाले खिलाड़ी को घरेलू मैच में खेलना होगा और यह उनके लिए सर्वश्रेष्ठ मौका था। फिलहाल साहा और पार्थिव हमारे पास सर्वश्रेष्ठ नंबर एक और दो हैं। फिटनेस परीक्षा के लिए ही हमने साहा को यहां खिलाया।’ पार्थिव ने टेस्ट में अच्छी वापसी करते हुए दो अर्धशतक जड़े जबकि मुंबई के खिलाफ फानइल में शानदार शतक लगाकर गुजरात को रणजी ट्राफी का खिताब भी दिलाया। साहा ने हालांकि ईरानी ट्राफी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक खेलते हुए नाबाद 203 रन बनाए जिससे शेष भारत ने लगभग 400 रन के लक्ष्य को हासिल किया। ये भी पढ़ें: विराट कोहली के लिए मुसीबत बन सकता है भारत के खिलाफ इंग्लैंड का बेहतरीन टी20 रिकॉर्ड

प्रसाद ने कहा कि निजी तौर पर मैं सिर्फ इतना कह सकता हूं कि साहा चोट के कारण टीम से बाहर थे और इसलिए नहीं कि वह खराब फार्म में थे। वह न्यूजीलैंड के खिलाफ कोलकाता टेस्ट में मैन आफ द मैच थे और उन्होंने वेस्टइंडीज में शतक बनाया था।’ प्रसाद का साथ ही मानना है पार्थिव की विकेटकीपिंग में सुधार हुआ है लेकिन साहा अब भी बेहतर विकेटकीपर हैं।   ये भी पढ़ें: ईरानी कप में दोहरा शतक जड़ने वाले पहले विकेटकीपर बल्लेबाज बने रिद्धिमान साहा

उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर पार्थिव की विकेटकीपिंग में सुधार हुआ है। लेकिन साहा की विकेटकीपिंग बेहतर है और वहीं वह पार्थिव से अधिक अंक हासिल करते हैं। ईरानी कप में बल्लेबाज से साहा ने दिखाया कि वह देश के नंबर एक विकेटकीपर हैं। कल जब वह बल्लेबाजी के लिए आए थे तो टीम 63 रन पर चार विकेट गंवाकर संकट में थी लेकिन साहा के बेहतरीन खेल की बदौलत शेष भारत ने गुजरात से मैच छीन लिया। इसलिए दोनों खिलाड़ियों के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा है जो टीम के लिए काफी अच्छा है।