पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर मुदस्सर नजर का मानना है कि अगर पाकिस्तान की अतीत की राष्ट्रीय टीमों को मौजूदा टीम की तरह पृथकवास में रखा जाता तो खिलाड़ी आपस में ही लड़ बैठते.

‘मौजूदा इंग्लैंड दौरे पर खिलाड़ी बोर हो रहे हैं’

इंग्लैंड में अगले महीने से होने वाली टेस्ट और टी20 श्रृंखला से पहले पाकिस्तानी टीम को पृथकवास में रखा गया है.  हाल तक पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) की राष्ट्रीय अकादमी के प्रमुख रहे मुदस्सर ने दावा किया कि उन्हें बताया गया है कि कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए इंग्लैंड में बनाए जैविक रूप से सुरक्षित वातावरण में खिलाड़ी बोर हो रहे हैं और थकान महसूस कर रहे हैं.

मुदस्सर ने पाकिस्तानी समाचार चैनल से कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि इस तरह का माहौल क्रिकेट के लिए आदर्श है. मैंने सुना है कि कोविड-19 से जुड़ी पाबंदियों के कारण इंग्लैंड में खिलाड़ी ऊब रहे हैं और थकान महसूस कर रहे हैं. ’

‘मैं हैरान हूं’

उन्होंने कहा, ‘मैं हैरान हूं कि अगर 1990 के दशक की तरह की टीम को इस तरह कोरोना वायरस के हालात में रहना पड़ता तो क्या होता. मुझे लगता है कि अब तक कुछ खिलाड़ी लड़ने लगते और एक-दूसरे को नुकसान पहुंचाने पहुंच जाते.’

पाकिस्तान की टीम अगले महीने से 3 टेस्ट और इतने ही मैचों की टी20 सीरीज इंग्लैंड के खिलाफ खेलेगी.