Murali Vijay: Selectors didn’t speak to me after I was dropped in England
Murali Vijay (File Photo) © AFP

इंग्‍लैंड दौरे पर मुरली विजय ने खराब प्रदर्शन किया। लॉर्ड्स टेस्‍ट की दोनों पारियों में वो अपना खाता तक नहीं खोल पाए। पहले दो मैचों की चार पारियों में उन्‍होंने महज 26 रन बनाए। जिसके कारण उन्‍हें तीसरे टेस्‍ट मैच में प्‍लेइंग इलेवन से बाहर कर दिया गया था। इसके बाद बाकी बचे दो टेस्‍ट मैच से भी सिलेक्‍टर्स ने उन्‍हें बाहर का रास्‍ता दिखा दिया

मुरली विजय ने मुंबई मिरर से बातचीत के दौरान कहा कि उन्‍हें टीम से बाहर किए जाने से पहले कोई जानकारी नहीं दी गई थी। विजय से पूछा गया कि क्‍या टीम मैनेजमेंट ने उन्‍हें बाहर करने से पहले बातचीत की थी। उसपर उन्‍होंने कहा, बिल्‍कुल भी नहीं। न तो चीफ सिलेक्‍टर और न ही टीम से जुड़े किसी अन्‍य सदस्‍य ने इंग्‍लैंड में मुझे इसकी जानकारी दी।”

इससे पहले मध्‍यक्रम के बल्‍लेबाज करुण नायर भी टीम से बाहर किए जाने से पहले बातचीत नहीं किए जाने का मुद्दा उठा चुके हैं। करुण नायर को इंग्‍लैंड दौरे पर टीम में शामिल किया गया था, लेकिन एक भी मैच में उन्‍हें प्‍लेइंग इलेवन का हिस्‍सा नहीं बनाया गया। अब वेस्‍टइंडीज के खिलाफ टेस्‍ट सीरीज से भी उन्‍हें बाहर का रास्‍ता दिखा दिया गया है।

हरभजन सिंह ने भी करुण नायर को बाहर किए जाने का मुद्दा उठाया था। उनका कहना था कि एक खिलाड़ी तीन महीने से टीम के साथ बैंच पर बैठा रहा। उसे एक भी मैच खेलने का मौका नहीं मिला और अचानक उसे बाहर कर दिया गया। मुरली विजय ने हरभजन सिंह की बात का समर्थन करते हुए कहा, “एक खिलाड़ी को ये बताया जाना चाहिए कि आखिरी क्‍यों उसे टीम से बाहर किया जा रहा है ताकि उसे पता तो रहे कि वो टीम मैनेजमेंट और सिलेक्‍टर्स की नजरों में कहां हूं।”

विजय ने टीम से बाहर होने के बाद इंग्लिश काउंटी में एसेक्‍स की तरफ से खेलते हुए एक शतक और तीन अर्धशतक लगाए। फिलहाल वो विजय हजारे ट्रॉफी में तमिलनाडु की तरफ से खेल रहे हैं। विजय ने कहा, “साल 2014-15 में ऑस्‍ट्रेलिया दौरे के दौरान मैने वहां 482 रन बनाए थे। मुझे वहां की पिचों के बारे में काफी जानकारी है। मैं अपने तरीके से ऑस्‍ट्रेलिया दौरे के लिए तैयारी कर रहा हूं। मैं मौके की तलाश कर रहा हूं। इससे पहले मैं घरेलू क्रिकेट में अच्‍छा प्रदर्शन कर अपनी दावेदारी मजबूत करने का प्रयास कर रहा हूं।”