मुझे रियो ओलंपिक का सद्भावना दूत बनने का प्रस्ताव नहीं मिला: रहमान
फोटो साभार deccanchronicle.com

संगीतकार-गायक ए.आर. रहमान ने सोमवार को रियो ओलम्पिक के सद्भावना दूत बनने का प्रस्ताव मिलने की खबरों को खारिज कर दिया। उन्होंने हालांकि सद्भावना दूत के रूप में सलमान खान को चुने जाने के फैसले की प्रशंसा की। ‘पेले : बर्थ ऑफ अ लेजेंड’ फिल्म के ट्रेलर लांच पर रहमान से जब इस बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा, “मैंने इस बारे में मीडिया से ही सुना है। सब जगह ऐसा सुनने को मिला है। मुझे अभी तक इस संदर्भ में कोई भी ई-मेल नहीं मिला है। शायद प्रबंधन इस बारे में जानता हो, लेकिन मुझे नहीं पता।”

ऐसी खबर थी कि क्रिकेट दिग्गज सचिन तेंदुलकर और दिग्गज निशानेबाज अभिनव बिंद्रा के साथ-साथ रहमान से भी भारतीय ओलम्पिक समिति (आईओए) ने रियो ओलम्पिक के लिए सद्भावना दूत बनने के संदर्भ में संपर्क किया है।

सलमान को सद्भावना दूत नियुक्त करने के बारे में रहमान ने कहा, “मुझे लगता है कि वह काफी लोकप्रिय हैं, तो ऐसा क्यों न हो?” उल्लेखनीय है कि सलमान को सद्भावना दूत बनाए जाने के फैसले पर मिल्खा सिंह, गौतम गंभीर और योगेश्वर दत्त सहित कई दिग्गज हस्तियों ने विरोध जताया था।  आपको बता दें कि इसके बाद तेंदुलकर और निशानेबाज अभिनव बिंद्रा को सद्भावना दूत बनाने का फैसला लिया गया।

इसके बाद गांगुली ने कहा था कि सलमान इसमें ग्लैमर का तड़का लगाएंगे और लोगों को ओलम्पिक देखने के लिए प्रेरित करेंगे। उन्होंने कहा था, “मैं सलमान की नियुक्त से खुश हूं। वह इसमें ग्लैमर लाने के साथ-साथ लोगों को ओलम्पिक देखने के लिए प्रेरित करेंगे।”