पाकिस्तान के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज राशिद लतीफ (Rashid Latif) का कहना है कि वो टीम इंडिया (Team India) के पूर्व क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को कभी आउट होते हुए नहीं देखना चाहते थे।

ऑनलाइन वीडियो चैट के दौरान लतीफ ने कहा, “जब मैं विकेटकीपिंग करता था, तब कई खिलाड़ी बल्लेबाजी करने आते थे। लेकिन जब सचिन बैटिंग करने आते थे तो मेरा दिल नहीं करता था कि वो आउट हों। जब ब्रायन लारा, रिकी पॉन्टिंग या जैक कालिस बैटिंग करने आते थे तो कीपिंग करते हुए मुझे लगता था कि ये जल्दी आउट हों। तेंदुलकर का व्यवहार काफी अलग और अनूठा रहा है। अगर मैं उन्हें पीछे से कुछ बोलता भी था तो वो आगे से कोई जवाब नहीं देते थे, बस मुस्कुराते रहते थे।”

लतीफ ने इस महान बल्लेबाज की जमकर तारीफ की है। खेलों के प्रति सचिन के जुनून की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि वो एक ऐसे क्रिकेटर रहे हैं, जो बल्लेबाजी को बहुत आसान बना देते थे। लतीफ ने कहा कि शतकों का शतक लगाने वाले तेंदुलकर की सबसे खास उपलब्धि भारत के लिए 200 टेस्ट मैच खेलना है।

उन्होंने कहा, “200 टेस्ट मैच खेलना आसान काम नहीं हो सकता.. (उन्होंने खेला है)। 400 से अधिक वनडे मैच खेले हैं। अतीत में कई खिलाड़ी हुए हैं, लेकिन तेंदुलकर का कैरेक्टर कुछ अलग है। किसी भी तरह के विवाद में आपको उनका नाम शामिल नहीं मिलेगा, चाहे वो टीम मैनेजमेंट के साथ हो या युवाओं के साथ। चाहे वो कोई भी रिकॉर्ड बुक हो या कोई भी प्लेइंग इलेवन, तेंदुलकर का नाम हमेशा रहेगा।”