हार्दिक पांड्या © AFP
हार्दिक पांड्या © AFP

तीसरे वनडे मैच में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 5 विकेट से हराकर सीरीज में 3-0 की अजेय बढ़त बना ली। भारत की इस जीत के हीरो रहे हार्दिक पांड्या। मैच के बाद पांड्या काफी खुश नजर आए। हालांकि उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि वो आने वाले मैचों में जीत दिलाकर ही वापस लौटने की कोशिश करेंगे। ये भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलिया को धूल चटाने के बाद विराट कोहली बन गए ‘रिपोर्टर’, हार्दिक पांड्या से पूछे ‘तीखे सवाल’

मैच के बाद पांड्या ने कहा, ”मुझे काफी खुशी हो रही है। चौथे नंबर पर खेलना मेरे लिए एक मौका था और मैंने इस मौके का पूरा फायदा उठाया। मैं बाएं हाथ के स्पिन गेंदबाजों को निशाना बनाना चाहता था और उनके खिलाफ ज्यादा से ज्यादा रन बनाने की सोच रहा था। मैंने जब कुछ छक्के लगाए तो उसके बाद मैंने सोचा कि अब मैं थोड़ा समय ले सकता हूं। मैं टीम के लिए किसी भी जगह अपना योगदान देने के लिए तैयार हूं। मुझे जहां मौका मिलेगा मैं अपना बेस्ट देने की कोशिश करूंगा।”

पांड्या ने आगे कहा, ”मैं अगली बार पूरा मैच जिताने की कोशिश करूंगा। मैं चाहूंगा कि मैं मैच जिताकर ही वापस लौटूं। तीसरे वनडे में मैं बल्लेबाजी के दौरान अपना हौसला बढ़ा रहा था। मैं लगातार अपने खेल में सुधार करने के बारे में सोचता रहता हूं।” तीसरे वनडे मैच में पांड्या ने पहले गेंदबाजी में 1 विकेट लिया और इसके बाद उन्होंने बल्ले से बेहतरीन खेल दिखाते हुए 78 रनों की पारी खेली। पांड्या को उनके ऑलराउंड खेल के लिए मैन ऑफ द मैच का खिताब भी दिया गया। इस सीरीज में पांड्या मैच विनर बनकर उभरे हैं और उन्होंने 2 मौकों पर टीम इंडिया को जीत दिलाई है।

मौजूदा सीरीज में रन बनाने के मामले में पांड्या सबसे आगे हैं। पांड्या ने 3 मैचों में 60.33 की औसत से 181 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 2 अर्धशतक भी लगाए हैं। पांड्या ने अपने करियर की बेस्ट पारी भी इसी सीरीज में खेली है और उनका बेस्ट स्कोर 83 रन है। खास बात ये है कि पांड्या ने इस सीरीज में अब तक 110.36 के स्ट्राइक रेट के साथ रन बनाए हैं, जिनमें 9 छक्के और 12 चौके शामिल हैं। गेंदबाजी में भी पांड्या ने कमाल दिखाया है और सीरीज में सबसे ज्यादा विकेट लेने के मामले में वो चौथे नंबर पर हैं। पांड्या ने इस सीरीज में अब तक 3 मैचों में 5 विकेट लिए हैं।