सुरेश रैना © Getty Images
सुरेश रैना © Getty Images

सुरेश रैना को उस वक्त तगड़ा झटका लगा था जब उन्हें श्रीलंका के खिलाफ 5 वनडे मैचों की सीरीज के लिए टीम इंडिया में शामिल नहीं किया गया था। रैना को इस सीरीज में वापसी की खासी उम्मीद थी लेकिन कुछ कारणों के चलते ऐसा हो नहीं पाया। अब रैना को टीम इंडिया में वापसी करने के लिए घरेलू क्रिकेट में दमखम दिखाना होगा।

सुरेश रैना साल 2015 के बाद से टीम इंडिया की वनडे टीम में वापसी नहीं कर पाए हैं और तबसे ही वह प्रयासरत हैं। रैना ने आईपीएल के 10वें एडीशन में शानदार प्रदर्शन किया था लेकिन उनकी टीम गुजरात लायंस उम्मीदों पर खरी नहीं उतर पाई। बहरहाल, रैना ने ये साफ कर दिया है कि वह नकारे जाने से निराश नहीं हैं और वह इस बात पर विश्वास करते हैं कि उनका समय आएगा।

रैना अगले कुछ दिनों में बूची बाबू टूर्नामेंट में उत्तरप्रदेश की ओर से खेलेंगे। उन्होंने एक अंग्रेजी वेबसाइट से बातचीत करते हुए कहा, “मैं बिल्कुल भी निराश नहीं हूं। मैं बस प्रक्रिया का आनंद ले रहा हूं। जब आप सफलता प्राप्त करते हो, तो उसके लिए कोई शॉर्ट कट नहीं होता जो आप ले सको।”

[ये भी पढ़ें: भारतीय क्रिकेटर्स ने कुछ इस अंदाज में कहा ईद मुबारक]

“मेरा समय आएगा। मैं बहुत परिश्रम कर रहा हूं। मैं अपने गेम का आनंद लेता हूं। यही मेरे नियंत्रण में है। मैं ये नहीं सोच रहा हूं कि अन्य क्या कर रहे हैं। मेरा काम प्रैक्टिस करना और कड़ी मेहनता करना है। जब भी मुझे मौका मिलेगा मैं उसे दोनों हाथों से पाने की कोशिश करूंगा।”

रैना ने अपना आखिरी टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच इस साल फरवरी में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था। उन्होंने इस मैच में शानदार 63 रनों की पारी खेली थी। इसके बाद आईपीएल में भी उन्होंने धमाकेदार प्रदर्शन किया था। रैना ने कहा कि उन्होंने अपनी गलतियां सुधारी हैं और उन्हें मैदान पर भुनाने के लिए वह तैयार हैं।

रैना ने कहा, “मैं बैठकर आराम नहीं करना चाहता जैसा मैंने पूर्व में किया। यह जरूरी है कि हम वर्तमान में जिएं और आगे देखें। मैंने अपनी गलतियों में सुधार किया है जो मैं कर रहा था। अब समय है कि उन्हें मैदान में भुनाया जाए।” रैना आगामी दिलीप ट्रॉफी टूर्नामेंट में इंडिया ब्लू की कप्तानी करेंगे।”

“यह रैना के लिए चयनकर्ताओं को जवाब देने का बड़ा प्लेटफॉर्म होगा। रैना ने कहा, “अब से हर मैच, हर सेशन महत्वपूर्ण है। मैं हर कुछ पूरे आनंद के साथ कर रहा हूं। मैं यहां गेम 2 और 3, 5 और 6 को खेलूंगा। इसके बाद मैं दिलीप ट्रॉफी के लिए जाऊंगा।”

रैना ने कहा, “मिडिल ऑर्डर में आपको ज्यादा मैचों की जरूरत होती है और आपको जमने में ज्यादा समय लगता है। ज्यादातर समय आपके पास 15 ओवर बैटिंग करने को होते हैं। आपको कुछ सीरीज में खेलने देने की जरूरत है फिर आप सोच सकते हैं कि आपको क्या करने की जरूरत है।”

“मिडिल ऑर्डर एक ऐसी जगह है जहां आप खूब प्रयोग कर सकते हो। आपको परिस्थिति का आंकलन करने की जरूरत होती है ताकि आप मैच खत्म कर सको। सफलता के लिए आपको अपनी मजबूती और अपना गेम जानने की जरूरत होती है।”

रैना ने श्रीलंका सीरीज में एमएस धोनी के प्रदर्शन की भी तारीफ की और कहा, “धोनी ने अच्छी बैटिंग की है। वह बहुत शांत नजर आए और कड़ी मेहनत की। विराट कोहली के साथ वह जाहिरतौर पर अपना अनुभव बांट सकते हैं।”