Nathan Lyon calls the four-day test ridiculous; Justin Langer too unwilling to change
नाथन लियोन (AFP Photo)

ऑस्ट्रेलिया के शीर्ष स्पिनर नाथन लियोन ने आईसीसी के चार दिवसीय टेस्ट मैचों के प्रस्ताव को ‘हास्यास्पद’ कहा है। वहीं मुख्य कोच जस्टिन लैंगर भी पांच दिन के फॉर्मेट में बदलाव के पक्ष में नहीं है।

लियोन का बयान ऐसे समय में आया है जबकि क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के सीईओ केविन राबर्ट्स ने कहा कि उनका बोर्ड चार दिवसीय टेस्ट में दिलचस्पी रखता है और वो इस साल के आखिर में अफगानिस्तान के खिलाफ इस तरह का मैच खेल सकते हैं।

लियोन ने कहा, ‘‘मैं पूरी तरह से इसके खिलाफ हूं और मुझे उम्मीद है कि आईसीसी इस पर विचार तक नहीं करेगी। आप दुनिया भर में खेले गये बड़े मैचों पर गौर करो तथा मैं जिन सर्वश्रेष्ठ टेस्ट मैच का हिस्सा रहा वो आखिरी तक रोमांचक बने रहे।’’

कोहली की कप्तानी पर सवाल उठाने वालों को शास्त्री का जवाब- परफेक्ट नहीं होता कोई कप्तान

लैंगर ने भी पत्रकारों से बातचीत में कहा कि विकल्प पर गौर किया जा सकता है लेकिन उनकी निजी राय है कि इसमें कोई बदलाव नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘मेरी प्राथमिकता मैं पारंपरिक हूं और जो भी मुझे जानता है उसे पता है कि मैं बहुत अधिक बदलाव का पक्षधर नहीं हूं, इसलिए मैं पांच दिवसीय टेस्ट मैचों का पक्ष लूंगा।’’

लैंगर ने कहा, ‘‘लेकिन अगर चार दिवसीय टेस्ट मैच टेस्ट क्रिकेट को जीवित रखते हैं तो इस पर गौर किया जा सकता है। लेकिन मैं पांच दिवसीय मैच इसलिए पसंद करता हूं क्योंकि मैं नीरस हूं और मैं बहुत अधिक बदलाव पसंद नहीं करता।’’

डेल स्टेन के खिलाफ दक्षिण अफ्रीका में रन बनाकर आत्मविश्वास बढ़ा: बाबर आजम

लियोन ने इस संदर्भ में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 2014 में एडिलेड में खेले गए टेस्ट मैच का उदाहरण दिया जिसे मेजबान टीम ने आखिरी घंटे में जीता था। उन्होंने कहा, ‘‘आप ऑस्ट्रेलिया और भारत के बीच 2014 में एडिलेड में खेले गये मैच को याद करो जो पांचवें दिन आखिरी आधे घंटे तक खिंचा। इसके बाद आप 2014 में केपटाउन टेस्ट को देखो जिसमें रेयान हैरिस ने तब मोर्ने मार्केल को बोल्ड किया जबकि दो ओवर बचे हुए थे। मैं चार दिवसीय टेस्ट मैच का पक्षधर नहीं हूं। कई मैच ड्रा होंगे। पांचवां दिन महत्वपूर्ण है।’’