नाथन लायन-डेविड वार्नर-स्टीवन स्मिथ © Getty Images
नाथन लायन-डेविड वार्नर-स्टीवन स्मिथ © Getty Images

चटगांव टेस्ट में अपनी शानदार गेंदबाजी की मदद से ऑस्ट्रेलिया को बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज 1-1 से बराबरी पर लाने वाले नाथन लायन का कहना है कि वह अपनी साथी खिलाड़ी डेविड वार्नर की तरह अपनी उपलब्धियों को गिनते नहीं है। दरअसल वार्नर और लायन दोनों को इस टेस्ट सीरीज में उनके बेहतरीन प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ द सीरीज का खिताब दिया गया। इस दौरान लायन ने कहा, “बांग्लादेश एक मजबूत विपक्षी टीम है और यह हमारे लिए सकारात्मक नतीजा है। मैं केवल ऑस्ट्रेलिया के लिए मैच जीतने और विकेट लेने की कोशिश करता हूं। साझेदारी में गेंदबाजी करना जरूरी है, इसमें मजा आया। मैं डेविड वार्नर की तरह निजी सफलता का हिसाब नहीं लगाता।”

लायन ने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट की दोनों पारियों में पांच विकेट हॉल लिए। पहली पारी में उन्होंने 7 विकेट लिए और दूसरी पारी में भी 6 विकेट झटके। इस बारे में बात करते हुए लायन ने कहा, “गेंदबाजी के लिए ये काफी अच्छा विकेट था। जीत का श्रेय हमारे बल्लेबाजों को जाना चाहिए, जिस तरह से उन्होंने लड़ाई की और हमारे लिए मैच बनाया। सभी गेंदबाजों ने खास प्रदर्शन किया, हम सभी जानते हैं कि उपमहाद्वीप में हमें ज्यादा सफलता नहीं मिली है। हमारे लिए यहां आकर एक युवा टीम की तरह खेलना और जीतना जरूरी था।” [ये भी पढ़ें: खिलाड़ियों की फिटनेस सुधारने के लिए श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने उठाया बड़ा कदम]

मैच में 123 रनों की शानदार पारी के बारे में बात करते हुए डेविड वार्नर ने कहा, “मैने ये तरीका अपने पुराने साथी खिलाड़ी क्रिस रॉजर्स से लिया है। इस तरह की स्थितियों में बल्लेबाजी को लिए खुद को तैयार करने के लिए मुझे 15 टेस्ट मैच लग गए। मुझे इसके लिए मानसिक तौर पर खुद को तैयार करना पड़ा। इस तरह की पिच पर मुझे ज्यादा सफलता नहीं मिली थी और पहले मैच से ही हम संघर्ष कर रहे थे। धैर्य रखना और कड़ी मेहनत करने से सफलता मिली।”