Nathan Lyon: Working on variations to keep up with wrist spinners
Nathan-Lyon © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया के शीर्ष ऑफ स्पिनर नाथन लियोन कलाई के स्पिनरों के बढ़ते दबदबे के बीच सीमित ओवरों के क्रिकेट में प्रासंगिक बने रहने के लिए अपनी गेंदबाजी में कुछ और वैरिएशन को शामिल करने की कोशिशों में जुटे हैं।

भारत के लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल और चाइनामैन कुलदीप यादव, पाकिस्तान के यासिर शाह और इंग्लैंड के आदिल राशिद व ऑस्ट्रेलिया के एडम जाम्‍पा, ये सभी अंगुलियों के स्पिनरों के लिए चुनौती पेश कर रहे हैं लेकिन लियोन इसके लिए तैयार हैं।

पढ़ें: हार्दिक पांड्या और राहुल के भाग्य का फैसला अब बीसीसीआई लोकपाल के हाथ में

लियोन ने भारत के खिलाफ होने वाले तीसरे वनडे की पूर्व संध्या पर कहा, ‘कलाई के स्पिनर किसी भी टीम का अहम हिस्सा होते हैं लेकिन मैं कुछ वैरिएशन पर काम कर रहा हूं जिससे कि सुनिश्चित कर सकूं कि खेल के साथ आगे बढ़ सकूं। खेल इतनी तेजी से आगे बढ़ रहा है। यह सभी के लिए सीखने का शानदार मौका है।’

लियोन का हालांकि मानना है कि किसी भी ढांचे में अंगुली और कलाई के स्पिनरों का उचित संतुलन होना चाहिए।

उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि यह संतुलन होना काफी महत्वपूर्ण है, टीम में कुछ काफी अच्छे स्पिनर होने चाहिए। भारत को देखिए, उनके पास कुछ बेहद अच्छे स्पिनर हैं। कुलदीप, उसका कौशल अविश्वसनीय है लेकिन जडेजा को भी वे काफी अहमियत देते हैं।’

पढ़ें: बीसीसीआई ने पाकिस्‍तान क्रिकेट बोर्ड का निमंत्रण ठुकराया

उन्होंने कहा, ‘ मुझे लगता है कि किसी भी अंतरराष्ट्रीय टीम के लिए यह बेहद महत्वपूर्ण है कि विश्व कप के लिए जाते हुए उनकी टीम में कुछ अच्छे स्पिनर हों।’

मौजूदा टेस्ट ढांचे में संभवत: सर्वश्रेष्ठ ऑफ स्पिनर लियोन वनडे टीम का नियमित हिस्सा बनने की कोशिशों में जुटे हैं लेकिन उन्होंने कहा कि वह इसे लेकर अपने ऊपर कोई अतिरिक्त दबाव नहीं बना रहे।

उन्होंने कहा, ‘नहीं, इससे कोई अतिरिक्त दबाव नहीं आता। छोटे प्रारूप और ऑस्ट्रेलिया के लिए रंगीन कपड़ों में खेलने का काफी लुत्फ उठाता हूं।’

लियोन का मुख्य हथियार उछाल है लेकिन मौजूदा सीरीज की पिचों की प्रकृति धीमी और कम उछाल वाली है और ऐसे में इस ऑफ स्पिनर ने कहा कि इन पिचों पर अलग तरह की गेंदबाजी करने की जरूरत है।

ऑस्ट्रेलिया ने भले ही दो करीबी मैच गंवा दिए हो लेकिन लियोन का मानना है कि ऑस्ट्रेलिया को ‘चोकर’कहना सही नहीं होगा।